दीपोत्सव पर घर-घर जले दीप3290824

दीपोत्सव पर घर-घर जले दीप

वारासिवनी। नईदुनिया न्यूज

देश भर में दीपावली पर्व बड़े ही हर्षोल्लास से मनाया गया। रोशनी का यह दीपावली त्यौहार भारत के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। यह त्यौहार अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है। भारतवर्ष में दीपावली का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्व है। इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। दिवाली का त्यौहार देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी धूमधाम से मनाया जाता है।

इस पर्व पर पर्यावरण संरक्षण पर मोटिवेशन करने वाले जिले के इंडिया स्टार अवार्डी युवा अजयसिंह धुर्वे ने एक सप्ताह पहले सोशल मीडिया और समाचार पत्रों द्वारा जिलेवासियों से ईको फ्रैंडली दीपावली मनाने की अपील की थी। इस अपील से प्रेरित होकर जिले में कई स्थानों पर रंगोली बनाकर, दीप और ग्रीन फटाखे जलाकर ईको श्च्ेडली दीपावली मनाई गई और यह आज के समय में बहुत जरूरी भी है अपने पर्यावरण का संरक्षण करना। क्योंकि वैज्ञानिक युग में पर्यावरण बहुत प्रदूषित हो चुका है।

अजयसिंह ने बताया कि सनातन धर्म की मान्यता के अनुसार दिवाली के दिन ही राम जी वनवास से अयोध्या लौटे थे। मान्यता है कि अयोध्या वापस लौटने की खुशी में दीपावली मनाई गई थी। मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम अपने 14 वर्ष का वनवास पूरा करने के बाद दिवाली के दिन अयोध्या वापस लौटे थे। राम जी के वापस आने की खुशी में पूरे राय के लोग रात में दीप जलाए थे और खुशियां मनाए थे। उसी समय से दिवाली मनाई जाती है।

दीपावली के अवसर पर अजयसिंह धुर्वे के नेतृत्व में एम एल देशमुख, युवा आइकान सलमान शेख, शमीम शेख, राजेन्ध मसखरे, अमित देशमुख, नितेश पानेकर, लल्ला मसखरे, ग्राम भेंडारा से सरपंच प्रतिनिधि हनसराम पगरवार, अशोक लिल्हारे, प्रफुल्ल नगपुरे, पंडित श्री मिश्रा, कार्यम अध्यक्ष योगराज दशहरे, रवि दशहरे, एमोटीवेटर अजय ठाकुर, रवि दशहरे, राज चिखले एवं अन्य युवा ने ईको श्च्ेडली दीपावली मनाई।

Read Source