बिलासपुर। रेलवे की हर ट्रेनों के कोच के टॉयलेट में बायोटैंक लगाने के निर्देश हैं। इस लक्ष्य को दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने 30 सितंबर 2019 को पूरा कर लिया है। जोन के सभी पुराने 1206 कोच में 4299 टैंक लगाए जा चुके हैं। बॉयोटैंक स्टेनलेस स्टील का बना होता है। इसकी लंबाई 1150 मिमी और चौड़ाई 720 मिमी व ऊंचाई 540 मिमी आयतन होती है। एक टैंक की लागत लगभग 75 हजार रुपये आती है। भारतीय रेलवे एवं रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन ने एक साथ मिलकर बॉयो टायलेट का विकास किया है। यह बॉयो टायलेट पर्यावरण के अनुकूल है इसमें मानव अवशिष्ट छह से आठ घंटे में हानि रहित पानी और गैस में तब्दील होकर वातावरण में मिल जाते हैं। इसमें सीधे टैंक से डिस्चार्ज नहीं होता है। जिससे स्टेशन एवं पटरी के आसपास स्वच्छता रहती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket