2019 में इस तरह बढ़ेंगे इलेक्ट्रिक व्हीकल्स

अमेरिका में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन भारत अभी इसके लिए तैयार हो रहा है। इस नए साल में भारत में क्या होगा इलेक्ट्रिक व्हीकल्स का भविष्य, जानिये इन बातों से...

इलेक्ट्रिक वाहनों में एक बड़ी चुनौती चार्जिंग की है। इलेक्ट्रिक स्कूटरों में दिया जा रहा साधारण चार्जिंग प्लग इस मामले में राहत देता है और निर्भरता को कम करता है। अब फोर व्हीलर में भी सिंपल चार्जिंग का इस्तेमाल होगा। वॉल्वो कार्स ने हाल ही में प्लग-इन हाइब्रिड कार को भारत में पेश किया था। कंपनी का दावा है कि वो पहली ऐसी कंपनी है जो भारत में प्लग-इन हाइब्रिड कार को असेंबल करेगी। इस कार की खासियत है कि यह पहले 40 किलोमीटर बिजली से चलेगी और फिर यह हाइब्रिड मोड में चली जाएगी यानी पेट्रोल इंजन का इस्तेमाल करने लगेगी। इससे अच्छा माइलेज मिलेगा। कंपनी आने वाले वक्त में चार प्लग-इन हाइब्रिड कार लॉन्च करेगी।

कुछ कंपनियां दो चार्जर भी देने लगी है जैसे वॉल्वो एक्ससी90 में कंपनी की तरफ से दो इलेक्ट्रिक चार्जर दिए गए हैं। पहला चार्जर घर पर रख सकते हैं और दूसरा चार्जर ऑफिस में फिट किया जा सकता है। इस तरह के कदम सरकारी इंफ्रास्ट्रक्चर की निर्भरता को कम करेंगे।

मारुति सुजुकी ने हाल ही में अपनी इलेक्ट्रिक कार की टेस्टिंग शुरू की है। नई वेगन-आर के बारे में भी कयास लग रहे हैं कि ये इलेक्ट्रिक रेडी होगी। 2019 में कुछ और बड़ी कंपनियों की घोषणाएं होंगी। फिलहाल भारत में महिंद्रा की इलेक्ट्रिक कारें भारत की सड़कों पर दौड़ रही हैं। टाटा की 'टिगोर ईवी' जल्द आने वाली है। इसी तरह हर महीने भारत में हजारों नए ई-रिक्शा सड़कों पर उतार रहे हैं। नए साल में यह आंकड़ा तेजी से बढ़ेगा। 2018 में कुछ ग्रॉसरी रीटेल चेन्स ने ई-रिक्शा का जमकर उपयोग किया। छोटे व्यवसायों में ये बड़े काम के साबित हो रहे हैं।

Posted By:

  • Font Size
  • Close