नई दिल्ली। देश में हालांकि कारों की बिक्री में कमी आई है लेकिन इसके बावजूद जो कारें बिकी हैं वो उसे चलाने वाले के लिए कितनी सुरक्षित हैं इसका नतीजा सामने आ गया है। देश में सुरक्षित वाहनों को बढ़ावा देने की मुहिम के तहत किए गए परीक्षण में मारुति सुजुकी इंडिया की लोकप्रिय हैचबैक वैगनआर और ह्युंडई की सैंट्रो को महज दो स्टार मिले। वहीं डेटसन की रेडीगो को सबसे कम एक स्टार मिला। गुरुवार को वाहन सुरक्षा समूह ग्लोबल एनसीएपी ने इस बात की जानकारी दी है कि एंट्री लेवल कारों पर किए गए इस परीक्षण में रेडीगो को महज एक स्टार रेटिंग मिली।

इस क्रैश टेस्ट में जो कारें शमिल की गईं थी उनमें से किसी को भी पांच स्टार रेटिंग नहीं मिल सकी। हालांकि, मारुति सुजुकी के दो एयरबैग वाले मल्टी परपस व्हीकल (एमपीवी) एर्टिगा को परीक्षण में 3-स्टार रेटिंग मिली है।

ग्लोबल एनसीएपी ने कहा, "भारत के लिए सुरक्षित वाहन मुहिम के छठे दौर के लिए एर्टिगा, वैगनआर, सैंट्रो और रेडीगो के एंट्री लेवल संस्करण को चुना गया। परीक्षण से पता चला कि केवल एर्टिगा में ही दो एयरबैग दिए गए हैं, जबकि अन्य वाहनों में केवल चालक के लिए एक एयरबैग है।"

एर्टिगा का प्रदर्शन बेहतर

ग्लोबल एनसीएपी के प्रेसिडेंट व सीईओ डेविड वार्ड ने कहा, "वाहनों के हालिया सुरक्षा परीक्षण में मिश्रित प्रदर्शन देखने को मिला। निराशाजनक तौर पर किसी भी वाहन ने 5-स्टार प्रदर्शन नहीं किया।"

उन्होंने कहा कि एर्टिगा ने व्यस्कों और बच्चों दोनों के लिए तीन-तीन स्टार रेटिंग प्राप्त की। वैगनआर और सैंट्रो को बच्चों और व्यस्कों के लिए 2-2 स्टार मिले। रेडीगो को व्यस्कों के लिए एक स्टार और बच्चों के लिए 2-स्टार रेटिंग मिली।

इस टेस्ट रिपोर्ट के बाद इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश की सड़कों पर दौड़ने वाली कारें हादसे में इसे चलाने वाले और इसमें सवार लोगों के लिए कितनी सुरक्षित हैं।

Posted By: Ajay Barve