इंदौर (व्यापार प्रतिनिधि)। केंद्र सरकार ने नेपाल और बांग्लादेश के रास्ते शून्य शुल्क पर रिफाइंड पाम ऑयल का आयात रोक दिया है। विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने नोटिफिकेशन जारी करके 39 आयात लाइसेंस रद्द कर दिए हैं।

डीजीएफटी के अनुसार इस रास्ते से आयात के लिए जारी सभी लाइसेंस तत्काल रद्द कर दिए गए हैं। इन लाइसेंसों की नए सिरे से जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। डीजीएफटी के मुताबिक देखने में आया है कि इस सुविधा के तहत भारी मात्रा में रिफाइंड पाम ऑयल का आयात हो रहा है।

नेपाल के रास्ते 2017-18 में जहां कुछ भी आयात नहीं हुआ था, वहीं 2018-19 में इस रास्ते से 45,667 टन रिफाइंड पाम ऑयल का आयात हुआ और 2019-20 में 189,078 टन का आयात देखा गया, जो एक साल पहले के मुकाबले 300 प्रतिशत से भी ज्यादा है। वहीं बांग्लादेश के रास्ते 2018-19 में 3,698 टन रिफाइंड पाम ऑयल का आयात हुआ, जो 2019-20 में 22,151 टन के स्तर पर पहुंच गया।

भारत सरकार का मानना है कि इस सुविधा के तहत हो रहे कारोबार में दक्षिण एशियाई मुक्त व्यापार क्षेत्र (साफ्टा) की शर्तों का उल्लंघन हुआ है, क्योंकि इसके तहत इंडोनेशिया ओरिजिन का तेल भी नेपाल और बांग्लादेश के रास्ते भारत भेजा जा रहा है, जबकि इस संधि के तहत स्थानीय उपज जरूरी है।

'ओरिजिन ऑफ कंट्री' शर्त का उल्लंघन

इस साल आठ जनवरी को भारत सरकार ने रिफाइंड पाम ऑयल का आयात प्रतिबंधित कर दिया था। हालांकि बाद में साफ्टा की शर्तों के तहत नेपाल और बांग्लादेश के रास्ते रिफाइंड पाम ऑयल के आयात के लिए लाइसेंस जारी करना शुरू कर दिया गया था। लेकिन, करार के अनुसार 'ओरिजिन ऑफ कंट्री' की शर्त के उल्लंघन की वजह से एक बार फिर इस पर रोक लगा दी गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना