मुंबई। भारतीय अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष 2019-20 में सात प्रतिशत की वृद्घि दर हासिल नहीं कर पाएगी। आधिकारिक रूप से अर्थव्यवस्था की वृद्घि दर सात प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया है। सिंगापुर के बैंक डीबीएस की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्घि दर सात प्रतिशत से कम यानी 6.8 प्रतिशत रहेगी।

राधिका राव की अगुवाई में डीबीएस के अर्थशास्त्रियों का अनुमान है कि लगातार दूसरे वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्घि की रफ्तार सात प्रतिशत से कम रहेगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में वृद्घि दर नरम पड़ेगी और और दूसरी छमाही में आधार प्रभाव की वजह से बढ़ेगी। भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दरों में लगातार तीन बार की गई कटौती के संदर्भ में रिपोर्ट में कहा गया है कि इससे दूसरी छमाही में वृद्घि की रफ्तार तेज करने में मदद मिलेगी। उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक 2019 में नीतिगत दरों में तीन बार में 0.75 प्रतिशत की क

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close