रोहिन कुमार। सोशल मीडिया पर इन दिनों प्रॉपर्टी को लेकर फरेबी विज्ञापनों की बाढ़ आ गई है। विशेषज्ञों का कहना है कि जम्मू क्षेत्र में जमीन-जायदाद का कारोबार सकारात्मक रुझान देख सकता है, लेकिन कश्मीर के बाजार को लेकर वे आशंकित हैं। हताश कश्मीरियों का कहना है कि वे जमीन बेचकर आगे बढ़ना चाहते हैं।

जैसे ही आर्टिकल 35ए निरस्त होने की खबर आई, गैर-मूल निवासियों को जम्मू-कश्मीर में प्रॉपर्टी खरीदने की अनुमति मिल गई। नकारात्मक तत्वों ने इसे एक मौके के तौर पर देखा और सोशल मीडिया एवं रियल एस्टेट बेवसाइट्‌स पर फर्जी विज्ञापनों की बाढ़ आ गई।

पांच अगस्त को इस रिपोर्टर को एक परिचित ने टेक्स्ट मैसेज भेजा। इसमें कहा गया था, 'कश्मीर के लाल चौक रोड पर प्लॉट बुक करें। जीएसटी के साथ शुरुआती कीमत 11.25 लाख रुपए। आर्टिकल 370 हटा लिया गया है। स्टॉक सीमित है। विस्तृत जानकारी के लिए 90192.... नंबर पर फोन करें।' कई अलग-अलग सोर्सेस से यही मैसेज आया। जब इसके बारे में पूछताछ की गई तो पता चला कि यह विज्ञापन फर्जी था। इसमें जिस कंपनी 'ईडन रियल्टी' का जिक्र किया गया था, उसने ऐसा कोई विज्ञापन दिया ही नहीं था।

जम्मू-कश्मीर में जब आर्टिकल 35ए लागू था, तब राज्य सरकार के पास यह तयकरने का अधिकार था कि कौन व्यक्ति या परिवार वहां का स्थायी निवासी है और केवल वही लोग राज्य में जमीन या कोई प्रॉपर्टी खरीद सकते थे। अब चूंकि संविधान की यह धारा हटा ली गई है, राज्य के रियल एस्टेट डीलरों और ब्रोकरों ने प्लॉट और फ्लैट की खरीद-फरोख्त के लिए विज्ञापन देना शुरू कर दिया है। हालांकि कई लोग ऐसे भी हैं, जो फर्जी विज्ञापन के जरिए कश्मीर के प्रति बेपनाह लगाव रखने वालों को ठगने की कोशिश कर रहे हैं।

उदाहरण के लिए जानेमाने रियल-एस्टेट पोर्टल 99एकरेज पर जारी एक विज्ञापन को ही ले लीजिए। इसमें कहा गया है कि श्रीनगर के राज बाग में 20 कमरों और 10 बाथरूम वाला एक रिहायशी अपार्टमेंट बिक्री के लिए उपलब्ध है। तीन से ज्यादा बालकनियों वाली इस प्रॉपर्टी की कीमत 6 करोड़ रुपए रखी गई है। जब वेबसाइट पर अपनी यह प्रॉपर्टी लिस्ट करने वाले ने अपार्टमेंट की तस्वीरें दिखाने के लिए पैसे की मांग की, तब इस संवाददाता को संदेह हुआ और उसने पाया कि प्रॉपर्टी के सारे विवरण गढ़े हुए हैं, उसमें कोई सचाई नहीं है। इस पर 99एकरेज के कस्टमर केयर एक्जीक्यूटिव ने बताया, 'हालांकि, विज्ञापनों में दिए गए विवरण कीसचाई जांची जाती है, लेकिन हर बार साइट पर जाकर पूरे विवरण की हकीकत जानना संभव नहीं हो पाता। ऐसे मामलों में आप विज्ञापन के नीचे दिए गए रिपोर्ट बटन पर क्लिक कर सकते हैं। हम उस पर गौर करेंगे।'

क्विकर, मकान डॉट कॉम और प्रॉपर्टीवाला डॉट कॉम जैसी अन्य पोर्टल्स पर भी इस नई नवेली केंद्र शासित प्रदेश के कई इलाकों में आकर्षक प्रॉपर्टी डील की पेशकश वाले विज्ञापनों की लंबी लिस्ट देखी जा सकती है। मसलन, मकान डॉट कॉम में श्रीनगर के बागती कानी पोरा में 2,101 वर्ग फीट का एक रिहायशी प्लॉट लिस्टेड है। इसकी कीमत 75 लाख रुपए रखी गई है। इसी तरह क्विकर ने श्रीनगर के ही नवाकाडल में एक 4 बीएचके प्रॉपर्टी की कीमत 1.8 करोड़ रुपए बताई है।

धोखाधड़ी का जरिया बने विज्ञापन

एक ऑनलाइन रियल एस्टेट कंपनी के एक सूत्र ने पहचान जाहिर न करने की शर्त पर बताया कि धोखाधड़ी वाले विज्ञापन अक्सर संभावित ग्राहकों तक पहुंच बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। सूत्र ने बताया, 'यदि आप श्रीनगर स्थित किसी प्रॉपर्टी की बिक्री से संबंधित ऑनलाइन विज्ञापन पर क्लिक करते हैं तो आपकी तरफ से दिए गए सारे विवरण डीलर के डेटाबेसमें डाल दिए जाते हैं। वे आपको संभावित ग्राहक के तौर पर वर्गीकृत कर लेते हैं और फिर आपको ईमेल और टेक्स्ट मैसेज के जरिए विज्ञापन भेजने का सिलसिला शुरू हो जाता है।'

जम्मू की स्थिति

- वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही के दौरान देश के नौ बड़े शहरों में मकानों की बिक्री सालाना आधार पर 11 प्रतिशत घटी है।

- अप्रैल-जून तिमाही के दौरान इन नौ बड़े शहरों में नए रियल्टी प्रोजेक्ट की लांचिंग में 47 प्रतिशत की भारी गिरावट दर्ज की गई है।

- जम्मू की स्थिति इसके उलट है। वहां प्रॉपर्टी की कीमतों में तेजी आई है। अपार्टमेंट, रेस्टोरेंट और सुपर मार्केट की लांचिंग भी बढ़ी है।

- जम्मू में एक 2बीएचके अपार्टमेंट की कीमत 60-65 लाख रुपए तक हो सकती है, जो दिल्ली और मुंबई के कुछ इलाकों के समान है।

प्रॉपर्टी की कीमतें

- शुरुआती कीमत 2.8 लाख रुपए

- औसत कीमत 69.07 लाख रुपए

- प्रति वर्ग फुट औसत कीमत 2,300 रुपए

(सोर्स: मकान डॉट कॉम)

कश्मीर की स्थिति

- प्रॉपर्टी की उपलब्धता और कीमतों के लिए पूछताछ बढ़ी।

- रियल्टी कंपनियों को कीमतें ज्यादा बढ़ने की उम्मीद कम।

- बिल्डरों को बदले हुए कानूनपर स्थिति स्पष्ट होने का इंजतार।

प्रॉपर्टी की कीमतें

- श्रीनगर के प्रसिद्घ नौहट्टा डाउनटाउन में रिहायशी प्लॉट का सरकारी भाव 43 लाख रुपए प्रति कनाल (5,445 वर्ग फीट) है।

- शहर के इसी इलाके में कमर्शियल प्लॉट का सरकारी भाव 69 लाख रुपए प्रति कनाल तय किया गया है।

जमीन बेचने के मूड में कश्मीरी?

एक तरफ जहां शेष भारत कश्मीर की घाटी में प्लॉट लेने के लिए बेताब नजर आ रहे हैं वहीं दूसरी तरफ कश्मीर के बाहर रह रहे कश्मीरियों को लग रहा है कि उनके साथ विश्वासघात हुआ है। पहचान जाहिर न करने की शर्त पर दिल्ली में रह रहे एक कश्मीरी ट्रेडर ने कहा, 'केंद्र सरकार ने हमारे साथ धोखा किया। हमने न तो कभी आजादी के आंदोलन का समर्थन किया और न ही पाकिस्तान समर्थक रहे। कर्फ्यू हटा लेने के बाद क्या होगा, मुझे नहीं पता। मैं केवल अपनी संपत्ति बेचना चाहता हूं और अपने परिवार के साथ दुबई में बसना चाहता हूं।'

दिल्ली में पढ़ने वाले एक कश्मीरी छात्र का कहना है, 'अब्बू पहले से किसी अन्य देश में बसना चाह रहे थे। अब उनके पास इस योजना को अंजाम देने का कारण मिल गया है। यदि हमारी उम्मीदें खत्म हो जाती हैं और आत्मनिर्णय काअधिकार हमेशा के लिए कुचल जाता है, तो हमारे पास यहां रहने का कोई कारण नहीं बचेगा।'

- फोर्ब्स इंडिया

Posted By: Sonal Sharma