नई दिल्ली। अगले छह महीने तक कंपनियां नए कर्मचारियों की भर्ती करने को लेकर काफी उत्साहित हैं। इसमें ज्यादातर भर्ती तीन से पांच साल का अनुभव रखने वाले लोगों के दायरे में होगी। रोजगार क्षेत्र की प्रमुख साइट नौकरी डॉट कॉम के हर छमाही होने वाले सर्वेक्षण के मुताबिक जिन लोगों से बात की गई उनमें से 78 प्रतिशत ने उम्मीद जताई कि अगले छह माह के दौरान नियुक्ति गतिविधियों का परिदृश्य बेहतर रहेगा।

एक साल पहले इसी छमाही में 70 प्रतिशत ने ऐसी उम्मीद जताई थी। यह सर्वेक्षण जुलाई से दिसंबर 2019 की अवधि के लिए किया गया। हालांकि, इसमें रोजगार सृजन को लेकर सकारात्मक संकेत मिलता है लेकिन नियोक्ताओं को बेहतर प्रतिभा को पाने को लेकर अभी भी कुछ चिंता है।

प्रतिभाओं की कमी

सर्वेक्षण में भाग लेने वाले 41 प्रतिशत नियोक्ताओं का मानना है कि अगले छह माह के दौरान प्रतिभाओं की कमी सामने आ सकती है। इससे पहले 50 प्रतिशत ने ऐसी कमी होने की बात कही थी। सर्वेक्षण रिपोर्ट में जवाब देने वाले नियोक्ताओं में से 16 प्रतिशत ने कहा कि अगले छह माह के दौरान होने वाली नियुक्तियां नौकरी छोड़ने वालों के स्थान पर ही होगी जबकि पांच प्रतिशत ने संकेत दिया कि आगामी छह माह में कोई नई नियुक्ति नहीं होगी।

सर्वेक्षण में एक प्रतिशत ऐसे भी नियोक्ता सामने आए जिन्होंने कहा कि नई नौकरियों पैदा होने के बजाय नौकरियां कम होंगी।

ये क्षेत्र देंगे सबसे ज्यादा नौकरियां

सर्वे के मुताबिक, जितनी भी नई नौकरियां सृजित होंगी उनमें से 80-85 प्रतिशत सूचना प्रौद्योगिकी, बैंकिंग, वित्तीय सेवाएं और बीमा तथा बीपीओ क्षेत्रों में होंगी। जहां तक अनुभव और बेहतर प्रतिभाओं की बात है, ज्यादातर नियोक्ताओं का मानना है कि ज्यादातर नियुक्तियां तीन से पांच साल का अनुभव रखने वालों की होंगी। इसके बाद एक से तीन साल का अनुभव रखने वालों की नियुक्ति की उम्मीद है।

18 फीसदी अनुभवी लोगों को

18 फीसदी नौकरियां उन लोगों को मिलेंगी जिन्हे आठ साल से अधिक का अनुभव है। बीपीओ सेक्टर में आधी नौकरियां उन लोगों को मिलेंगी जो कोई अनुभव नहीं है या जिन्हें एक साल का अनुभवहै। ऑटोमोबाइल उद्योग उन लोगों को नौकरियां देगा जिन्हें 12 साल का अनुभव है। नौकरी डॉट कॉम चलाने वाली कंपनी इंफो एज इंडिया के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर सुमित सिंग का कहना है कि भर्तियों के संकेत सकारात्मक हैं। 78 फीसदी रोजगार देने वालों का मानना है कि अगले छह महीने में भर्तियां बढ़ेंगी।

इन कारणों से नौकरियां

नौकरियां देने वालों और नौकरियां चाहने वालों का मानना है कि अच्छा वेतन, अच्छा पद और कैरियर में तरक्की वे तीन कारण होंगे जिनके कारण लोग नौकरियां बदलेंगे। इसके अलावा दूसरे शहर में बसना और प्रबंधक के कारण नौकरी बदलना अन्य कारण होंगे। इस सर्वेक्षण में 15 प्रमुख उद्योगों का प्रतिनिधित्व करने वाले 2700 रिक्रूटर्स और कंसल्टेंट्‌स ने हिस्सा लिया।

यहां भी क्लिक करें Aadhaar-PAN name mismatch: अलग-अलग हो आधार और पैन कार्ड में नाम तो ऐसे करेक्ट करवाएं

वाहन कलपुर्जा उद्योग में 10 लाख नौकरियां जाने का अंदेशा

वाहन कलपुर्जा विनिर्माताओं के अखिल भारतीय संगठन ऑटोमोटिव कंपोनेंट मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एक्मा) ने बुधवार को वाहन क्षेत्र के लिए जीएसटी की दर एक समान 18 प्रतिशत करने का अनुरोध किया है, ताकि पूरे वाहन उद्योग में मांग को बढ़ाया जा सके जिससे करीब 10लाख नौकरियां बचाने में मदद मिलेगी। अभी वाहन बिक्री में लगातार मंदी रहने की वजह से यह नौकरियां दांव पर लगी हैं। वाहन कलपुर्जा उद्योग करीब 50 लाख लोगों को रोजगार उपलब्ध कराता है। एक्मा ने बैटरी चालित वाहनों की नीति को भी स्पष्ट करने के लिए कहा है। एक्मा के अध्यक्ष राम वेंकटरमानी ने कहा,'वाहन उद्योग अभूतपूर्व मंदी का सामना कर रहा है। हर श्रेणी में वाहनों की बिक्री पिछले कई महीनों से भारी दबाव का सामना कर रही है।'

7th pay commission : इस राज्‍य के कर्मचारियों-पेंशनर्स को बड़ी सौगात, 1 सितंबर से मिलेगा सातवें वेतन आयोग का लाभ

 

विराट इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट से कमाते हैं 1.35 करोड़ रुपए

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close