Sensex Crash Update: सप्ताह के पहले ही दिन शेयर बाजार में बिकवाली का जोर रहा और सोमवार को स्टॉक मार्केट में भारी गिरावट दिखी। ग्लोबल फैक्टर्स के चलते सोमवार को बिकवाली के तूफान से भारतीय शेयर बाजार बुरी तरह हिल गये। सेंसेक्स ने 1,700 अंकों से ज्यादा की गिरावट के साथ 52,569.57 का आंकड़ा छू लिया। वहीं निफ्टी इंडेक्स में भी करीब 400 अंक की गिरावट देखी गई है। सोमवार 13 जून को बॉम्बे स्टॉक एक्चेंज (BSE) का 30 शेयरों वाला सूचकांक सेंसेक्स1,456.74 अंक या 2.68 फीसदी गिरकर 52,847 पर बंद हुआ। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का 50 शेयरों वाला सूचकांक निफ्टी 427.40 अंक या 2.64 फीसदी गिरकर 15,774 के स्तर पर बंद हुआ है। सोमवार को कारोबारी सत्र के दौरान निवेशकों को 6.5 लाख करोड़ से ज्यादा का नुकसान हुआ है।

सभी टॉप शेयरों में गिरावट

सेंसेक्स के टॉप-30 शेयरों में से सभी शेयर लाल निशान पर बंद हुए। केवल नेस्ले इंडिया के शेयर में करीब आधा फीसदी की तेजी देखी गई। इसके अलावा सभी में बड़ी बिकवाली हुई है। आज का टॉप लूजर स्टॉक बजाज फिनसर्व रहा, जिसके शेयरों में करीब 7 फीसदी की बड़ी गिरावट देखने को मिली। इसके अलावा बजाज फाइनेंस, इंडसइंड बैंक, टेक महिंद्रा, आईसीआईसीआई बैंक, टीसीएस, एनटीपीसी, एसबीआई, इंफोसिस, एलटी, अल्ट्राकेमिकल, कोटक बैंक, विप्रो, टाटा स्टील, एमएंडएम, डॉ रेड्डीज, एचसीएल टेक, एचडीएफसी, टाइटन, सन फार्मा, आईटीसी और रिलायंस समेत कई शेयरों में गिरावट दर्ज की गई।

क्यों आया गिरावट का दौर?

माना जा रहा है कि अमेरिका में महंगाई दर रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने से बाजार में लगातार गिरावट का बोलबाला है। अमेरिकी में महंगाई दर 40 सालों के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। इसके साथ ही आने वाले दिनों में यूएस फेड रिजर्व ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर सकता है, इस संभावना को देखते हुए विदेशी निवेशक लगातार बिकवाली कर रहे हैं। निवेशक भारत ही नहीं, कई उभरते देशों से बदहवासी में अपने पैसे निकाल रहे हैं, जिसने बाजार के सेंटीमेंट को पूरी तरह बिगाड़ दिया है। निकट भविष्य में भी बाजार में कमजोरी का ट्रेंड है और विशेषज्ञों के मुताबिक अमेरिकी बाजारों में स्थिरता आने के बाद ही भारतीय बाजार में स्थिरता आएगी।

Posted By:

  • Font Size
  • Close