सरकार Air India को फिर से चलाने के लिए बेचने की कोशिश में है और खबर है कि इसमें मशहूर उद्योगपति गौतम अडानी की अगुआई वाले अडानी ग्रुप ने रुचि दिखाई है। खबर है कि अडानी ग्रुप सरकारी विमानन कंपनी को खरीदने की तैयारी कर रहा है। फिलहाल मिली जानकारी के अनुसार बोली के लिए कोई अंतिम फैसला करने से पहले ग्रुप डील के प्रस्ताव की जांच-परख कर रहा है। सरकार ने वित्तीय संकट का सामना कर रही एयर इंडिया में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने की घोषणा की हुई है। इसके साथ ही सरकार एयर इंडिया की कंपनी ग्राउंड हैंडलिंग इकाई में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच रही है।

मामले से परिचित सूत्रों ने बताया कि अडानी ग्रुप की विलय और अधिग्रहण टीम एयर इंडिया के बोली दस्तावेज में अपने लिए संभावनाएं तलाश रही है। यदि अडानी ग्रुप एयर इंडिया के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (ईओआई) जमा करता है, तो वह टाटा ग्रुप, हिंदुजा, इंडिगो जैसी कंपनियों की कतार में शामिल हो जाएगा। अडानी ग्रुप पहले ही छह एयरपोर्ट के संचालन अधिकार हासिल कर चुका है। इसलिए ग्रुप एयर इंडिया के एयरपोर्ट ऑपरेशन में रुचि दिखा रहा है। हालांकि ग्रुप अंतिम फैसला एयर इंडिया के कर्ज और नुकसान को ध्यान में रखते हुए लेगा।

एयर इंडिया के खरीदार को करीब 23,286.5 करोड़ कर्ज के रूप में चुकाने होंगे। इसके अलावा कंपनी की कुछ और देनदारियां भी हैं, जो खरीदार के हिस्से में आएंगी। जानकारी के मुताबिक इस सरकारी कंपनी के निजीकरण प्रस्ताव में ऐसी कोई शर्त नहीं है, जिससे अडानी ग्रुप के रास्ते में बाधा हो। ज्ञात हो कि एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने किसी विमानन कंपनी को एयरपोर्ट के कारोबार में 27 प्रतिशत से ज्यादा हिस्सेदारी खरीदने पर रोक लगा रखी है।

बढ़ सकती है बोली जमा करने की समय-सीमा

एयर इंडिया के लिए बोली जमा करने की समय-सीमा बढ़ाने पर विचार हो रहा है। गृह मंत्री की अगुआई वाला अंतर-मंत्रालयी समूह इस सप्ताह के अंत में बैठक करेगा, जहां नई तिथि की घोषणा की जा सकती है। फिलहाल बोली जमा करने की अंतिम तिथि 17 मार्च है। इस समय इच्छुक खरीदार कंपनी के वर्चुअल डाटा रूम जाकर आंकड़ों की पड़ताल कर रहे हैं। कंपनी से जुड़े अधिकारियों ने कहा कि इस प्रक्रिया से आगे और कंपनियों के जुड़ने की संभावना है। इसलिए अंतिम तिथि बढ़ाने पर विचार हो रहा है।

इससे पहले सरकार ने 27 जनवरी को एयर इंडिया में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए प्रारंभिक सूचना ज्ञापन (पीएमआई) जारी किया था। इसके बाद 21 जनवरी को कंपनी के बारे में जानकारियों का पहला सेट जारी किया गया था। एयर इंडिया की बोली प्रक्रिया में शामिल होने के लिए कंपनी की कुल वैल्यू कम से कम 3,500 करोड़ रुपये होनी चाहिए।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket