नई दिल्‍ली, 20जून, 2022: वैश्विक स्तर की लॉजिस्टिक्स सेवाप्रदाता कार्गो-पार्टनर ने अगले दो-तीन वर्षों में 10 से ज़्यादा भारतीय शहरों में विस्तार करने की योजना की घोषणा की है। इस विस्तार से कार्गो-पार्टनर भारत के 24 से ज़्यादा शहरों और सभी प्रमुख बड़े शहरों में मौजूद होगी। कंपनी का लक्ष्य वित्त वर्ष 2025 के आखिर तक पूरे देश में अपना विस्तार करने और भारत के राष्ट्रीय लॉजिस्टिक्स बाज़ार की अग्रणी कंपनी बनने का है और यह तेज़ विस्तार इसी क्रम में किया जा रहा है।

श्री राजीव सिंह, रीजनल डायरेक्टर (इंडो-आसियान), कार्गो-पार्टनर ने कहा, "कार्गो-पार्टनर रोज़गार के ढेर सारे अवसर पैदा करेगी और वित्त वर्ष 2022 से 2025 के दौरान इन शहरों में 500 कर्मचारियों को नौकरी देगी। वे ऑटोमोटिव और स्पेयर पार्ट्स, फैशन और लाइफस्टाइल, खानपान और जल्द खराब होने वाली चीज़ों और दवाओं व स्वास्थ्यसेवा के क्षेत्र में काम करने वाली बी2बी कंपनियों को सेवाएं देंगे।

कार्गो-पार्टनर द्वारा अपनी सेवाओं के विस्तार किए जाने की एक प्रमुख वजह टियर 2 और टियर 3 शहरों से होने वाली मांग में बढ़ोतरी भी है।" चूंकि ई-कामर्स बाज़ार का विस्तार काफी तेज़ी से हो रहा है, ऐसे में कंपनी घरेलू ग्राहकों की मांग पूरी करने के लिए वेयरहाउसिंग के क्षेत्र में विस्तार करने की योजना बना रही है।

पिछले कुछ वर्षों के दौरान, कार्गो-पार्टनर ने अपनी ई-कॉमर्स और वेयरहाउसिंग क्षमताओं का विस्तार करने के लिए भारी-भरकम निवेश किया है। सिर्फ़ 2021 में कंपनी ने जर्मनी, क्रोएशिया, स्लोवेनिया, चीन और थाईलैंड समेत कई अन्य देशों में अपनी वैश्विक वेयरहाउस क्षमता 2,60,000 वर्गमीटर से बढ़ाकर 2,80,000 वर्गमीटर कर ली है। कंपनी यूरोप, एशिया और अमेरिका समेत 40 से ज़्यादा जगहों पर ई-कॉमर्स और संपूर्ण फुलफिलमेंट सेवाओं में अपनी विशेषज्ञता उपलब्ध कराती है।

कंपनी दवाओं के क्षेत्र में भी वृद्धि करने की संभावनाओं पर विचार कर रही है और कंपनी का मानना है कि भारत दुनिया के सबसे बड़े दवा निर्माताओं में से एक है और इस क्षेत्र में बड़ी कंपनियों के नए विचारों के फलने-फूलने की अपार संभावनाएं हैं।

2020 में कार्गो-पार्टनर ने विएना और हैमबर्ग में "फार्मा कॉम्पिटेंस सेंटर्स" के साथ मुंबई में फार्मास्युटिकल और हेल्थकेयर क्षेत्र के लिए अपना जीडीपी-कंप्लायंट कॉम्पिटेंस सेंटर खोला है। इससे कार्गो-पार्टनर भारत में अपने ग्राहकों को वेयरहाउसिंग, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर की ट्रक सेवाओं के साथ अंतरराष्ट्रीय हवाई और समुद्री मालढुलाई के क्षेत्र में जीडीपी-अनुकूल सेवाएं उपलब्ध करा रहा है।

कंपनी का मुख्यालय ऑस्ट्रिया में है और 40 से ज़्यादा देशों में 140 से अधिक कार्यालयों के साथ वैश्विक नेटवर्क हैं। कार्गो-पार्टनर का नेटवर्क पश्चिमी, पूर्वी और मध्य यूरोप, उत्तर पूर्व एशिया, दक्षिण पूर्व एशिया, ओशिनिया, भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका में फैला हुआ है।

फिलहाल, कंपनी के भारत में 14 कार्यालय हैं और दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोलकाता और अहमदाबाद जैसे सभी प्रमुख शहरों में कंपनी की मौजूदगी है। विस्तार के अपने लक्ष्यों के प्रति एकीकृत और व्यापक दृष्टिकोण अपनाते हुए कार्गो-पार्टनर पूरी आपूर्ति श्रृंखला में अपनी अमिट छाप छोड़ना चाहती है।

Posted By:

  • Font Size
  • Close