भारत के निजी क्षेत्र के तीसरे सबसे बड़े बैंक, एक्सिस बैंक ने वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही के अपने परिणामों की आज घोषणा की। बैंक ने इस तिमाही में 4,125 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज कराया, जबकि वित्त वर्ष'22 की पहली तिमाही में यह 2,160 करोड़ रु. था। बैंक की शुद्ध ब्याजीय आय (एनआईआई) 21% वर्ष-दर-वर्ष और 6% तिमाही-दर-तिमाही के आधार पर बढ़कर वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही में 9,384 करोड़ रुपये हो गई, जो वित्त वर्ष'22 की पहली तिमाही में 7,760 करोड़ रुपये थी।

वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही में, इसका शुद्ध ब्याजीय मार्जिन (एनआईएम) 3.60% रहा, जिसमें वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 14 आधार अंक और तिमाही-दर-तिमाही आधार पर 11 आधार अंक की वृद्धि हुई। कासा में 16% वर्ष-दर-वर्ष और 1% तिमाही-दर-तिमाही की वृद्धि हुई, जबकि कासा अनुपात 43% रहा जिसमें वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 53 आधार अंकों का सुधार हुआ।बैंक के परिचालन राजस्व में 11% की वृद्धि दर्ज की गई, जो वित्त वर्ष'22 की पहली तिमाही के 11,119 करोड़ रुपये से बढ़कर वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही में 12,383 करोड़ रुपये हो गया।

30 जून 2022 को, बैंक का सकल एनपीए और शुद्ध एनपीए स्तर क्रमशः 2.76% और 0.64% रहा, जबकि 30 जून 2021 को यह क्रमशः 3.85% और 1.20% था। बैंक की शुल्क आय 34% की वर्ष-दर-वर्ष की वृद्धि के साथ 3,576 करोड़ रु. हो गई। खुदरा शुल्क में 43% वर्ष-दर-वर्ष की वृद्धि हुई और कुल शुल्क में इसने 66% का योगदान दिया। वित्त वर्ष'23 की पहली तिमाही में, लाभ सहित कुल पूंजी पर्याप्तता अनुपात (सीएआर) 17.83% रहा और सीईटी 1 अनुपात 15.16% रहा।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close