हांगकांग। बैंकिंग सेक्टर की ब्रिटिश कंपनी एचएसबीसी ने मंगलवार को बिजनेस में बड़े बदलाव की घोषणा की। इसके तहत अगले तीन वर्षों के दौरान करीब 35,000 कर्मचारियों की छंटनी की जाएगी और अमेरिका व यूरोप में कामकाज कम किया जाएगा। 2019 में मुनाफा एक तिहाई घटने के बाद एचएसबीसी ने यह फैसला किया है।

अमेरिका और चीन के बीच छिड़े ट्रेड वॉर, ब्रिटेन का यूरोपीय संघ से बाहर आना (ब्रेग्जिट) और अब चीन में कोरोना वायरस फैलने की समस्या को देखते हुए एचएसबीसी कई तरह की अनिश्चिताओं का सामना कर रहा है। ऐसे में कंपनी परिचालन लागत में कटौती पर फोकस कर रही है। हालांकि चीन में बेहतर मौजूदगी के चलते बैंक का एशियाई कारोबार अच्छा चल रहा है, लेकिन अमेरिका और यूरोप के कारोबार का प्रदर्शन निराशाजनक है।

एचएसबीसी के कार्यवाहक सीईओ नोएल क्युइन ने कहा, 'हमारे कारोबार के कुछ हिस्से उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं। इसलिए निवेशकों को बेहतर नतीजे देने के लिए हम अपनी योजना पर पुनर्विचार कर रहे हैं।' बाद में ब्लूमबर्ग न्यूज के साथ एक बातचीत में उन्होंने कहा कि अगले तीन वर्षों में कंपनी कर्मचारियों की संख्या 2,35,000 से घटाकर 2,00,000 कर देगी। हालांकि उन्होंने इसकी विस्तृत जानकारी नहीं दी।

जानिये HSBC क्‍या है

एचएसबीसी होल्डिंग्स पीएलसी एक ब्रिटिश बहुराष्ट्रीय निवेश बैंक और वित्तीय सेवा होल्डिंग कंपनी है। यह 2018 तक दुनिया में 7 वां सबसे बड़ा बैंक था, और यूरोप में सबसे बड़ा 2.558 मिलियन अमेरिकी डॉलर की कुल संपत्ति थी। एचएसबीसी के 65 देशों और अफ्रीका, एशिया, ओशिनिया, यूरोप, उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका में लगभग 3,900 कार्यालय हैं और लगभग 38 मिलियन ग्राहक हैं। फोर्ब्स पत्रिका के अनुसार 2014 तक यह दुनिया की छठी सबसे बड़ी सार्वजनिक कंपनी थी।

Posted By: Nai Dunia News Network