गुरुग्राम: कंस्ट्रक्शन स्किल डेवलपमेंट काउंसिल ऑफ इंडिया (सीएसडीसीआई), एक गैर-लाभकारी संगठन है, जो राष्ट्रीय व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण परिषद (एनसीवीईटी), राष्ट्रीय कौशल विकास परिषद (एनएसडीसी) और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय (एमओएसडीई) के तत्वावधान में संचालित है, ने 'विश्वकर्मा दिवस' के अवसर पर एक दीक्षांत समारोह और अभिनंदन समारोह का आयोजन किया। सीएसडीसीआई युवाओं में रोजगार पाने के लिए जरूरी स्कील (दक्षताओं) को सीखता है। इससे उन्हें रोजगार पाने में मदद मिलती है, जो देश में एक स्थायी आर्थिक गतिविधि का निर्माण करती हैं।

इस अवसर पर श्री संजय कुमार, अतिरिक्त सचिव, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय, लेफ्टिनेंट जनरल राकेश कुमार लूंबा, सड़क परिवहन और राजमार्ग और नागरिक उड्डयन मंत्रालय, श्री आर गणेशन, प्रमुख कॉर्पोरेट केंद्र, लार्सन एंड टुब्रो, श्री सब्यसाची दास लार्सन एंड टुब्रो की एडु टेक कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, सुश्री पांगखुरी बोरगोहेन, महाप्रबंधक-राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) ने शामिल होकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। इस कार्यक्रम में विश्वकर्मा देवता के लगभग 50 'कौशल सैनिक' यानी निर्माण श्रमिकों, आज के निर्माण स्थलों के शिल्पकारों को सीएसडीसीआई द्वारा कई नौकरी भूमिकाओं के लिए 'प्रमाणपत्र' से सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर बोलते हुए, श्री संजय कुमार ने कहा कि यदि भारत को '5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था' बनना है, तो निर्माण श्रमिकों की कौशल आवश्यकताओं पर ध्यान देना अनिवार्य है, क्योंकि निर्माण देश के सकल घरेलू मूल्य में योगदान देने वाला दूसरा सबसे बड़ा उद्योग है। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि हमें ऐसे प्रयास करने चाहिए जो निम्नलिखित बातों को सुनिश्चित करें:

• सभी निर्माण श्रमिकों को एक सम्मानजनक और अच्छी जिंदगी मिले

• निर्माण स्थलों पर रहने और सुरक्षित कार्य करने की व्यवस्था हो

• समय पर श्रमिकों को मजदूरी का भुगतान और अन्य लाभ उन तक पहुंचाया जाय

• ऐसा कार्यबल तैयार किया जाय, जिसकी मान्यता पूरी दुनिया में हो

समारोह में, कई नए लॉन्च और समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए, जो इस प्रकार हैं:

1. लगभग एक दर्जन भारतीय भाषाओं में कौशल के महत्व को बढ़ाने के लिए 'कौशल से सफल' के 5 एपिसोड की टेस्टीमोनीअल जागरूकता 'ऑडियो-वीडियो' श्रृंखला को लॉन्च किया गया।

2. फॉर्मवर्क और शटरिंग, रीइनफोर्समेंट वर्क्स, स्टेजिंग और मचान, कंक्रीटिंग और मेसन श्रेणी जैसे विषयों को कवर करने वाले लर्निंग मॉड्यूल बनाने के लिए 'वर्चुअल रियलिटी' तकनीक का उपयोग किया जाए।

3. निर्माण उद्योग से जुड़े 'अकादमिक समूहों' की मैपिंग सहित मांग, आपूर्ति और इसके अंतर पर घरेलू 'अनुसंधान रिपोर्ट' तैयार किया जाए।

4. कुशल श्रमिकों को विदेशों में रोजगार के अवसर मुहैया कराने के लिए वैश्विक बेंचमार्क के अनुसार कौशल को चयन के लिए 'अंतर्राष्ट्रीय जनशक्ति जरूरत’ के मुताबिक एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार किया जाए।

5. सीएसडीसीआई एक 'सुपर इनक्यूबेटर' के रूप में उन नवाचारों का समर्थन करें जो कौशल विकास पहल को 'स्केलिंग और स्पीडिंग' को सक्षम करने के लिए अनुकरणीय, स्केलेबल और बचाने के लिए काम करता है।

6. लार्सन एंड टुब्रो के साथ अलग-अलग 'नौकरियों के लिए सुरक्षा, गुणवत्ता और उत्पादकता मानकों के खाका बनाने के लिए समझौते किए गए।

7. लार्सन एंड टुब्रो के एडु टेक के साथ 'ज्ञान भागीदार' के रूप में 'समझौता ज्ञापन', विशेष रूप से शिक्षा के उच्च स्तर को लक्षित करने के लिए किया गया।

Posted By:

  • Font Size
  • Close