Coronavirus : घरेलू शेयर बाजार में सोमवार को भारी गिरावट आई। सेंसेक्स करीब 807 अंक टूट गया। चीन से बाहर कई देशों में कारोना वायरस के नए मामले सामने आने की वजह से दुनियाभर के शेयर बाजारों में भारी बिकवाली हुई।

सेंसेक्स 806.89 अंक (1.96 प्रतिशत) की भारी गिरावट के साथ 40,363.23 पर बंद हुआ। निफ्टी भी 251.45 (2.08 प्रतिशत) गिरकर 11,829.40 के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स में शामिल सभी कंपनियों के शेयरों में गिरावट आई। टाटा स्टील ने सर्वाधिक 6.39 प्रतिशत गिरावट झेली। ओएनजीसी, मारुति सुजुकी, टाइटन, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी और भारती एयरटेल में भी भारी गिरावट आई।

दरअसल, कोरोना वायरस के चलते चीन में अब तक 2,592 लोगों की जान चली गई है। इस महामारी का दायरा यहीं तक सीमित नहीं रहा, बल्कि इसका दायरा बढ़ते जा रहा है। इस वायरस के नए मामले 28 अन्य देशों और क्षेत्रों में सामने आए हैं। इसके चलते निवेशक घबरा गए और दुनियाभर के शेयर बाजारों में बिकवाली बढ़ गई।

दक्षिण कोरिया में कोरोना के संक्रमण से 161 और लोगों के मारे जाने की खबर से शेयर बाजार नीचे आया। इस वायरस के कारण वहां अबतक 763 लोगों की मौत हो चुकी है। चीन के बाद यह दूसरा देश है, जहां इतनी तादाद में मौतें हुई हैं। उधर इटली में कारोना की वजह से चार लोगों की मौत हो चुकी है।

कुल मिलाकर घबराह भरे माहौल में भारत के अलावा एशिया के अन्य प्रमुख शेयर बाजारों में सियोल ने गिरावट देखी। शंघाई, तोक्यो और हांगकांग के बाजार भी गिरकर बंद हुए। यूरोप के शेयर बाजारों में ट्रेडिंग की शुरुआत गिरावट पर हुई। इटली के मिलान का एफटीएसई एमआईबी 4 प्रतिशत से अधिक नीचे आ गया।

खतरनाक संकेत

- जानलेवा वायरस का तेजी से दूसरे देशों में फैलना वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए चिंताजनक

- दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ने के बाद बढ़ाई गई सतर्कता

- इटली और ईरान ने भी अपने-अपने नागरिकों को बचाव को लेकर कई कदम उठाए हैं

आईएमएफ ने किया आगाह

इस बीच अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने आगाह किया कि कोरोना वायरस पहले से कमजोर वैश्विक अर्थव्यवस्था का संकट बढ़ा सकता है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी रविवार को कहा था कि कोरोना वायरस सबसे बड़ी हेल्थ इमर्जेंसी है।

Posted By: Nai Dunia News Network