नई दिल्ली। देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक एसबीआई अपने ग्राहकों को बेहतर सर्विस देने के लिए लगातार काम करता है। इतना ही नहीं समय-समय पर बैंक अपने ग्राहकों के लिए विभिन्न सुविधाओं और सुरक्षा संबंधित अलर्ट भी जारी करता है। इस संबंध में एसबीआई बैंक ने सुरक्षित ट्रांजेक्शन के कुछ प्वाइंट बताते हुए अपने ग्राहकों को जागरूक करने का एक छोटा सा प्रयास किया है।

अप्रैल 2019 के भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, SBI के पास देश में मौजूद 58,468 की कुल संख्या सहित 25,8383 एटीएम और 32,885 ऑफसाइट एटीएम के साथ ऑटोमेटेड टेलर मशीन (एटीएम) की सबसे बड़ी संख्या है। एटीएम का इस्तेमाल आप किस तरह करें, इसके बारे में देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने कुछ टिप्स दिए हैं।

SBI की इन टिप्स को फॉलो कर आप सुरक्षित ट्रांजेक्शन कर किसी भी तरह के फ्रॉड से बच सकते हैं।

-अपना एटीएम पिन नियमित रूप से बदलते रहे।

- एटीएम या डेबिट कार्ड का पिन गोपनीय होता है इसलिए एटीएम या डेबिट कार्ड पर उसका पिन लिखकर ना रखें।

-बैंक ,आईबीए , आरबीआई ,सरकारी एजेंसी ,परिवार और दोस्तों सहित किसी को भी अपना एटीएम कार्ड और पिन विवरण ना दें।

- लेन-देन पूरा होने तक किसी भी अजनबी शख्स को एटीएम रूम में ना आने दें।

-कभी भी एटीएम ट्रांजेक्शन करते वक्त किसी अजनबी शख्स की मदद ना लें।

-ATM/PoS टर्मिनलों पर ट्रांजेक्शन करते वक्त जब आप पिन डाल रहे हो तो कीपैड को छिपा लें।

-कभी भी अपनी ट्रांजेक्शन स्लिप को एटीएम रूम में ना फेंके, क्योंकि इसमें आपके अकाउंट की जानकारी होती है।

-हमेशा तब तक इंतजार करें जब तक की एटीएम होम मोड में न आ जाए और इसकी ग्रीन लाइट ना जलने लगे।

-होटल, दुकानों और मॉल आदि में अपना कार्ड अपनी मौजूदगी में ही स्वाइप करवाएं।

- अज्ञात अस्थायी स्टालों पर रखी PoS मशीनों पर कभी भी अपना कार्ड स्वाइप ना करें।

- गड़बड़ी की आशंका होने पर फौरन 18004253800 या 1800112211 पर कॉल करके अपना कार्ड ब्लॉक करवा दें।

-यदि, आपके अकाउंट से पैसे कटने का एसएमएस आता है और यह ट्रांजेक्‍शन आपने नहीं किया है तो फौरन इसकी सूचना अपने बैंक को दें।

Posted By: Sushma Barange