ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए नया कानून लागू हुआ है। अब उन्हें सामान बेचने वाले दुकानदार, अन्य सूचना, कंप्लेंट ऑफिसर और कॉन्टेंट भी दिखाना होगा। वह भी अच्छे तरीके से जिससे कस्टमर्स को कोई परेशानी ना हो। भारत सरकार का आदेश ग्राहकों के हित में है। केंद्रीय कंज्यूमर प्रोटेक्शन रेगुलेटर के अनुसार कोरोना वायरस महामारी के कारण ऑनलाइन खरीदारी में जबरदस्त वृद्धि हुई है।

सीसीपीए (CCPA) के अनुसार हर प्रदेश और औद्योगि सहयोगी के लिए एडवाइजरी जारी की जाएगी। कई ऐसी शिकायतें सामने आई थीं कि ई-कॉमर्स कंपनियां कंज्यूमर प्रोटेक्शन (ई-कॉमर्स) रूल्स 2020 के तहत सेलर की डिटेल नहीं देती है। जबकि कंज्यूमर प्रोटेक्शन (ई-कॉमर्स) रूल्स 2020 के नियम 5 (3) (ई) के तहत कंपनियों को सेलर का नाम, पता और अन्य जानकारी देनी होती है।

सीसीपीए कमिश्नर अनुपम मिश्र ने बताया कि इन नियमों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी। औद्योगिक सहयोगियों को अपने सदस्यों से नियमों का पालन करवाना होगा। जिससे ग्राहकों को शॉपिंग के समय पूरी जानकारी मिली। सीसीपीए के अनुसार कस्टमर्स कोविड-19 के कारण ऑनलाइन खरीदारी का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं। अप्रैल से जुलाई के बीच नेशनल कंज्यूमर हेल्पलाइन पर 69 हजार 208 शिकायतें दर्ज हुई हैं।

Posted By: Navodit Saktawat