नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को चालू वित्त वर्ष के लिए बाजार से कर्ज उठाने की सीमा 4.20 लाख करोड़ रुपए बढ़ाकर 12 लाख करोड़ रुपए कर दी। कोरोना वायरस का संक्रमण और इसे रोकने के उपायों के चलते राजस्व में संभावित कमी को पाटने के लिए यह फैसला किया गया है। बजट में बाजार उधारी का अनुमान 7.80 लाख करोड़ रुपए था। कोरोना संकट की वजह से यह सीमा 12 लाख करोड़ कर दी गई।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान जारी करके कहा, 'वित्त वर्ष 2020-21 के बजट में 7.80 लाख करोड़ रुपए बाजार से उठाने का अनुमान लगाया गया था, जिसे अब बढ़ाकर 12 लाख करोड़ रुपए कर दिया गया है।' सरकार ने यह कदम राजस्व और खर्चों के बीच अंतर को पाटने के लिए यह कदम उठाया है। वित्त वर्ष 2019-20 में सरकार ने बाजार से 7.1 लाख करोड़ रुपए उठाने का अनुमान लगाया था।

सरकार ने 31 मार्च को तय 21,000 करोड़ रुपये की साप्ताहिक उधारी का लक्ष्य भी बढ़ाकर 30,000 करोड़ रुपये कर दिया है। उधारी को लेकर अनुमान में बढ़ोतरी के बाद सरकार को चालू वित्त वर्ष के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य भी बढ़ाना पड़ेगा, जो अब तक 3.5 प्रतिशत है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना