आम आदमी की जेब पर और बोझ बढ़ने वाला है। हाल ही में आरबीआई ने रेपो रेट बढ़ा दिया है, इसके चलते कई प्रकार के लोन महंगे होने वाले हैं। कई बैंकों ने अपनी ब्‍याज दरों में इजाफा कर दिया है। इससे ईएमआई का बोझ भी बढ़ेगा। केंद्रीय बैंक ने इसी सप्‍ताह रेपो दर में 50 आधार अंकों की बढ़ोतरी के बाद बैंकों और वित्तीय संस्थानों ने ब्याज दरों में वृद्धि शुरू कर दी है। इससे होम, आटो और पर्सनल लोन महंगे हो गए हैं। रेपो दर में वृद्धि के बाद आइसीआइसीआइ बैंक, बैंक आफ बड़ौदा, पीएनबी, बैंक आफ इंडिया, इंडियन बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक और एचडीएफसी लिमिटेड ने कर्ज की दरों में बढ़ोतरी की है।

क्‍या होती है रेपो रेट

रेपो दर वह दर होती है जिस पर आरबीआइ छोटी अवधि की जरूरतों को पूरा करने के लिए बैंकों को कर्ज देता है। रेपो दर में बढ़ोतरी के बाद बैंक कर्ज की दरों को तुरंत बढ़ा देते हैं लेकिन जमा से जुड़ी दरों में जल्दी से वृद्धि नहीं करते हैं। जानकारों का कहना है कि ज्यादा से ज्यादा मुनाफे के लिए बैंक ऐसा करते हैं। कई बार जमा पर ब्याज दरों में तय सीमा से कम बढ़ोतरी की जाती है।

किस बैंक ने कितना बढ़ाया ब्‍याज का रेट

1. इंडियन बैंक ने ब्याज दर बढ़ाकर 7.75 प्रतिशत और इंडियन ओवरसीज बैंक ने 7.75 प्रतिशत कर दिया है। 2. बैंक आफ महाराष्ट्र ने कर्ज की दरों को 7.20 प्रतिशत से बढ़ाकर 7.70 कर दिया है।

3. आइसीआइसीआइ बैंक ने रेपो आधारित बाहरी बेंचमार्क उधारी दर को 50 आधार अंक बढ़ाकर 8.10 प्रतिशत से 8.60 प्रतिशत कर दिया है।

4. पीएनबी ने रेपो आधारित उधारी दर को 6.90 प्रतिशत से बढ़ाकर 7.40 प्रतिशत और बैंक आफ बड़ौदा ने भी बढ़ाकर 7.40 प्रतिशत कर दिया है।

5. एचडीएफसी लिमिटेड ने होम लोन की दरों को 0.50 प्रतिशत की बढ़ोतरी की है। इससे 20 वर्ष की अवधि के लोन पर प्रति लाख 31 रुपये ज्यादा देने होंगे।

6. एसबीआइ ने रेपो दर में बढ़ोतरी से पहले ही बाहरी बेंचमार्क उधारी दर को बढ़ाकर 7.05 प्रतिशत कर दिया है। इस दर के साथ क्रेडिट जोखिम प्रीमियम भी शामिल किया जाता है।

Posted By:

  • Font Size
  • Close