India Growth Estimation: भारत की अर्थव्यवस्था की विकास दर थोड़ी कम रह सकती है। इस तरह का अनुमान जताते हुए इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (IMF) ने मौजूदा वित्त वर्ष के लिए भारत के GDP ग्रोथ अनुमान को 0.80 फीसदी घटाकर 7.4 फीसदी कर दिया है। इससे पहले उन्होंने इसके 8.2% रहने का अनुमान लगाया था। आपको बता दें कि RBI के मुताबिक जीडीपी ग्रोथ रेट के 7.2% रहने की संभावना है। IMF ने वित्तीय वर्ष 2024 के ग्रोथ अनुमान में भी कमी करते हुए 6.9% प्रतिशत के मुकाबले 6.1% प्रतिशत कर दिया है। IMF ने 26 जुलाई को जारी अपनी हालिया वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक रिपोर्ट में ये जानकारी दी है। IMF ने भारत के अलावा चीन और अमेरिका के जीडी पी ग्रोथ में भी कटौती की है। इसके चलते IMF के साल 2022 के लिए ग्लोबल ग्रोथ का अनुमान भी 0.40 फीसदी घटकर 3.2 फीसदी पर आ गया है।

क्यों कम रहेगी विकास दर?

IMF ने भारत ही नहीं, तमाम देशों के अनुमानित विकास दर में कटौती की है। दरअसल, फरवरी के अंत में यूक्रेन पर रूस के हमले ने दुनिया भर में कई अहम वस्तुओं की सप्लाई को बाधित कर दिया, जिससे ग्लोबल स्तर पर कीमतें बढ़ चुकी हैं। इसके चलते कई विकसित देशों में भी महंगाई कई देशों के अपने ऊंचे स्तर पर पहुंच गई। महंगाई को रोकने के लिए उन देशों के केंद्रीय बैंकों ने अपनी मौद्रिक नीतियों को सख्त करना शुरू कर दिया है।

इसने भारतीय रुपये पर काफी दबाव पड़ा है, जो हाल के हफ्तों में कई रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गया है।

इन सब वजहों और देश में महंगाई के ऊंचे स्तर पर बने रहने के चलते रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) को ब्याज दरें बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ा।

वैश्विक मंदी का असर नहीं

भले ही भारत में जीडीपी ग्रोथ में कमी आने की संभावना हो, लेकिन पूरी दुनिया पर छानेवाली वैश्विक मंदी का भारत पर कोई असर नहीं पड़नेवाला है। इकोनॉमिस्ट्स के बीच किए गए सर्वे में अमेरिका और चीन समेत दुनिया के कई देशों में मंदी की संभावना जताई गई है। जैसे, न्यूजीलैंड, ताइवान, ऑस्ट्रेलिया और फिलीपींस में मंदी की संभावना को क्रमशः 33 फीसदी, 20 फीसदी, 20 फीसदी और 8 फीसदी आंका है। चीन की बात करें तो उसके मंदी

में फंसने की संभावना 20 फीसदी है। दक्षिण कोरिया या जापान के भी मंदी के शिकार होने की संभावनाएं 25 फीसदी हैं। लेकिन भारत के आर्थिक संकट में पड़ने की संभावना बिल्कुल भी नजर नहीं आती हैं।

Posted By:

  • Font Size
  • Close