नई दिल्ली, एजेंसी। ऑनलाइन आयकर रिटर्न भरने वाले सतर्क हो जाएं, क्योंकि उनके इनकम टैक्स खातों मे ताक-झांक की जा सकती है। वित्त मंत्रालय ने खुद माना है कि इंटरनेट प्रणाली के जरिये जमा कराए गए कुछ लोगों के आयकर विवरण (ई-रिटर्न) को अनधिकृत तरीके से देखा गया है। मंत्रालय से ऑनलाइन भरे गए इनकम टैक्स रिटर्न के बार में सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत जानकारी मांगी गई थी। अपने जवाब में मंत्रालय ने कहा है कि ऐसी घटनाएं रोकने को खास तरह की प्रमाणन प्रक्रिया तैयार की जा चुकी है। इसे जल्द लागू किया जाएगा।

आरटीआई के तहत मिले जवाब में मंत्रालय ने कहा है कि इन घटनाओं में हैकिंग यानी नेटवर्क सुरक्षा को भेदने जैसा कोई मामला सामने नहीं आया है। हां, इस तरह के कुछ मामले सामने आए हैं, जहां ई-रिटर्न भरने वाले कई करदाताओं के प्रमाणीकरण (ऑथेंटिकेशन) संबंधी ब्योरे कुछ लोगों ने विभाग की वेबसाइट के बजाय अन्य स्त्रोतों से हासिल कर लिया। फिर पासवर्ड को बदल कर ऑनलाइन सिस्टम पर जारी उनके आयकर विवरण देख लिए गए।

मंत्रालय ने इस मसले को हल करने के लिए सर्टिफिकेशन डिजाइन लागू करने की बात कही, मगर सुरक्षा कारणों का हवाला देकर इसका ब्योरा देने से इन्कार कर दिया। मुंबई पुलिस ने पिछले साल दावा किया था कि बड़े उद्योगपतियों, अभिनेताओं और क्रिकेटरों के ऑनलाइन रिटर्न खातों को अवैध तरीके से देखा गया था। ई-रिटर्न की ताक-झांक का शिकार बनने वालों में अनिल अंबानी, सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धौनी, शाहरुख खान और सलमान खान जैसी हस्तियां शामिल हैं।