मुंबई। आर्थिक तंगी से जूझ रही जेट एयरवेज की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही है। पिछले दिनों इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन ने नॉन पेमेंट की वजह से जेट एयरवेज को फ्यूल देना बंद कर दिया था। वहीं अब यूरोप की एक कार्गो सेवा देने वाली कंपनी ने बकाया भुगतान नहीं होने की वजह से बुधवार को जेट एयरवेज के एक बोइंग विमान को नीदरलैंड की राजधानी एम्सटर्डम के हवाई अड्डे पर जब्त कर लिया।

Airlines के एक सूत्र ने कहा है कि इस विमान के जरिए गुरुवार से मुंबई से एम्सटर्डम के लिए फ्लाइट (9 डब्ल्यू 321) जाना थी। एयरलाइन के एक सूत्र ने कहा, 'कार्गो एजेंट ने एयरलाइन की ओर से बकाया का भुगतान नहीं होने की वजह से जेट एयरवेज का बोइंग 777--300 ईआर (VT- JEW) अपने कब्जे में ले लिया।'

एक बयान में जेट एयरवेज ने कहा कि गुरुवार को एम्सटर्डम से मुंबई के लिए प्रस्तावित उड़ान संख्या '9डब्ल्यू 231' को परिचालन संबंधी वजहों से रद्द किया गया है। यह प्लेन मंगलवार को मुंबई से एम्सटर्डम के लिए उड़ा था। लीज पर विमान देने वाली कंपनियों के बकाए का भुगतान नहीं होने की वजह से जेट एयरवेज के विमान बेड़े के 75 फीसदी से ज्यादा प्लेन अलग-अलग हवाई अड्डों पर खड़े हैं।

पूर्व में जेट एयरवेज 123 प्लेनों का इस्तेमाल कर रहा था वहीं अब सिर्फ 25 विमानों के जरिये परिचालन किया जा रहा है।

गंभीर आर्थिक संकट में है जेट एयरवेज

नकदी संकट की वजह से जेट एयरवेज अपने 16,000 से ज्यादा कर्मचारियों को आंशिक वेतन का ही भुगतान कर पा रही है। कंपनी के पायलटों के एक वर्ग ने मंगलवार को कंपनी मैनेजमेंट को कानूनी नोटिस भी भेजा है। फिलहाल कंपनी के मैनेजमेंट की जिम्मेदारी एसबीआई की अगुआई में कर्जदाता बैंकों के हाथों में है।