मल्टीमीडिया डेस्क। मोबाइल यूजर्स को पहले मुफ्त में कॉलिंग और इंटरनेट की सुविधा देने के बाद अब मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों ने घाटे का हवाला देकर नई टैरिफ दरें लागू कर दी हैं। इसके साथ ही यूजर्स का खर्च अब लगभग डेढ़ गुना तक बढ़ जाएगा। यूजर्स से फेयर यूजेज पॉलिसी (FUP) के तहत दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने के लिए 6 पैसे प्रति मिनिट वसूले जाएंगे। टेलीकॉम कंपनियों द्वारा दिए गए इस झटके से यूजर्स उबरे भी नहीं है कि उन्हें कुछ महीनों बाद एक और बड़ा झटका लग सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आने वाली दो से तीन तिमाहियों में मुफ्त इनकमिंग कॉल का दौर खत्म हो सकता है और कॉलिंग सुनने के भी यूजर्स को पैसे चुकाना पड़ सकते हैं।

बता दें कि जियो ने अन्य नेटवर्क पर कॉल करने पर फेयर यूजेज पॉलिसी (FUP) चार्ज के अंतर्गत 6 पैसे मिनिट वसूलना शुरू किया है। इसके साथ ही अब वोडाफोन-आइडिया और एयरटेल ने भी FUP लगा दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टेलीकॉम कंपनियां 6-9 महीने में अपने नेटवर्क पर भी कॉलिंग शुल्क वसूल सकती हैं और इससे मुफ्त इनकमिंग कॉल का दौर पूरी तरह से खत्म हो जाएगा।

टैरिफ बढ़ाने के बाद उछला शेयर बाजार

टेलीकॉम कंपनियों द्वारा सोमवार को टैरिफ बढ़ाने की घोषणा के बाद दूरसंचार कंपनियों के शेयर एक साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गए। वोडा आइडिया, जियो और एयरटेल ने संयुक्त रुप से 33 हजार करोड़ की संपत्ति जोड़ी। बीएसई में वोडा आइडिया के शेयर 7.79 फीसदी, एयरटेल के 3.67 फीसदी और रिलायंस जियो के 2.28 फीसदी उछले थे।

Posted By: Neeraj Vyas