नई दिल्ली। सऊदी अरब एक बार फिर भारत के लिए सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता बनने जा रहा है। सऊदी अरैमको द्वारा रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (REL) के पेट्रोकेमिकल्स कारोबार में 20 फीसद हिस्सेदारी खरीदने के बाद यह सूरत बन रही है।

कुछ समय पहले तक सऊदी अरब ही भारत के लिए कच्चे तेल का सबसे बड़ा स्रोत था। लेकिन पिछले दो वित्त वर्षों के दौरान इराक भारत को सबसे ज्यादा कच्चा तेल आपूर्ति करने वाला देश बन गया था।

वित्‍त वर्ष के खत्‍म होने पर ये थे हालात

इस वर्ष मार्च में खत्म हुए वित्त वर्ष के दौरान इराक ने भारत को 4.66 करोड़ टन कच्चे तेल की आपूर्ति की। उसके मुकाबले सऊदी अरब द्वारा भारत को की गई आपूर्ति 4.03 करोड़ टन की रही, जो इराक के मुकाबले 15 फीसद ज्यादा है। रिलायंस के सौदे के बाद सऊदी अरब एक बार फिर भारत के लिए सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता बन जाएगा।

REL ने इसी सप्ताह घोषणा की थी

REL ने इसी सप्ताह घोषणा की थी कि सऊदी अरैमको ने उसके पेट्रोलियम और केमिकल कारोबार में 20 फीसद हिस्सेदारी खरीदी है। वुड मैकेंजी में रिफाइनिंग और केमिकल्स के वाइस प्रेसिडेंट एलन गेल्डर ने कहा कि पांच लाख बैरल रोजाना तेल आपूर्ति का मतलब यह है कि रिलायंस की सालाना कच्चा तेल जरूरत का 40 फीसद हिस्सा अरैमको से आएगा। यह मात्रा सऊदी अरैमको को मिली हिस्सेदारी के अनुपात में बहुत बहुत ज्यादा है।

बाजार में अरैमको की दिलचस्पी

अरैमको अतीत में रिलायंस की 20 फीसद जरूरत की आपूर्ति करती रही है। गेल्डर का कहना था कि भारतीय बाजार में अरैमको की दिलचस्पी पिछले कुछ समय से बरकरार है, और बढ़ ही रही है।

रिलायंस के ऑयल और केमिकल कारोबार में रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल्स शाखाओं के अलावा ऑयल मार्केटिंग शाखा में 51 फीसद हिस्सेदारी शामिल हैं।

ऑयल मार्केटिंग शाखा की बाकी 49 फीसद हिस्सेदारी रिलायंस ने ब्रिटेन की दिग्गज ऑयल कंपनी बीपी पीएलसी के हाथों 7,000 करोड़ रुपये में बेच ली है।