SBI New Facility : भारतीय स्टेट बैंक ने मंगलवार को अपने ग्राहकों के लिए नई सुविधा का ऐलान किया है। अब SBI के कस्टमर्स इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के जरिए 5 लाख रुपये तक का इमीडिएट मोबाइल पेमेंट सर्विस (IMPS) ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। साथ ही इस ट्रांजैक्शन पर कोई सर्विस चार्ज भी नहीं लगेगा। बता दें कि अब तक IMPS ट्रांजैक्शन की अधिकतम सीमा 2 लाख रुपये थी, जिसे बढ़ाकर अब 5 लाख रुपये कर दिया गया है। वैसे, 2 लाख रुपये तक के IMPS ट्रांजैक्शन पर भी कोई सर्विस चार्ज नहीं लगता था। बैंक ने अपने बयान में कहा कि यह सुविधा YONO ऐप के यूजर्स के लिए भी उपलब्ध है। SBI ने बताया कि यह निर्देश 1 फरवरी 2022 से लागू होंगे।

जानिये क्या है SBI का फैसला?

SBI ने बताया कि ग्राहकों में डिजिटल बैंकिंग को बढ़ावा देने के लिए इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग (YONO ऐप सहित) के जरिए IMPS ट्रांजैक्शन पर सर्विस चार्ज नहीं लागू करने का फैसला किया है। अगर आपके फोन में YONO ऐप नहीं है, तो आप बैंक की शाखा में जाकर भी IMPS कर सकते हैं, लेकिन उस पर आपको जीएसटी के साथ सर्विस चार्ज देना पड़ेगा। बैंक की शाखाओं से होने वाले IMPS ट्रांजैक्शन के लिए 2 लाख से 5 लाख रुपये का एक नया स्लैब बनाया गया है। इस स्लैब के तहत आने वाली रकम पर सर्विस चार्ज "20 रुपये + जीएसटी" होगा।

बता दें कि बैंक की शाखाओं से अभी सिर्फ 1,000 रुपये तक के IMPS ट्रांजैक्शन ही सर्विस चार्ज से मुक्त हैं। 1,001 रुपये 10,000 रुपये तक के ट्रांजैक्शन पर 2 रुपये (GST अतिरिक्त) लगता है। वहीं 10,001 रुपये 1 लाख रुपये तक के ट्रांजैक्शन पर 4 रुपये (GST अतिरिक्त) लागू होता है। वहीं 1 लाख रुपये से 2 लाख रुपये तक पर सर्विस चार्ज 12 रुपये (GST अतिरिक्त) है।

Posted By: Shailendra Kumar