कोविड-19 महामारी की वजह से 2020 की पहली तीन तिमाहियों के दौरान वैश्विक स्तर पर श्रमिकों की आय में सालाना आधार पर 10.7 प्रतिशत (3,500 अरब डॉलर) की भारी गिरावट आई है। इस आंकडे में सरकारी उपायों के जरिये उपलब्ध कराया गया आय समर्थन शामिल नहीं है। अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आइएलओ) ने यह जानकारी दी है। आईएलओ ने महामारी से दुनियाभर में कामकाज की स्थिति पर अपनी रिपोर्ट में कहा, 'कोविड-19 के कारण काम के घंटों का भारी नुकसान हुआ है। इससे दुनियाभर में श्रमिकों की आय घटी है।' आईएलओ ने कहा कि सबसे अधिक नुकसान निम्न-मध्यम आय वर्ग के देशों में हुआ। ऐसे देशों में श्रमिकों की आय का नुकसान 15.1 प्रतिशत तक पहुंच गया है। 'आईएलओ मॉनिटर कोविड-19 और श्रम की दुनिया' के छठे संस्करण में कहा गया है कि 2020 के पहले नौ महीनों के दौरान काम के घंटों का नुकसान पूर्व में लगाए गए अनुमान से अधिक रहा है। संशोधित अनुमान के अनुसार चालू साल की दूसरी तिमाही में 2019 की चौथी तिमाही के मुकाबले वैश्विक स्तर पर काम के घंटों का नुकसान 17.3 प्रतिशत रहा, जो 49.5 करोड़ पूर्णकालिक समतुल्य (एफटीई) रोजगार के बराबर है।

आगे भी हालात मुश्किल

2020 की चौथी तिमाही में काम के घंटों का नुकसान 12.1 प्रतिशत या 34.5 करोड़ एफटीई रोजगार के बराबर पहुंचने का अनुमान है। आईएलओ ने कहा कि 2020 की चौथी तिमाही में काम के घंटों का नुकसान पिछले साल की समान तिमाही के मुकाबले 8.6 प्रतिशत रहने का अनुमान है, जो 24.5 करोड़ एफटीई रोजगार के बराबर है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020