मुंबई Share Market। कोरोना संकट काल से देश की अर्थव्यवस्था तेजी से उभर रही है। देश में अनलॉक गतिविधियां शुरू होते ही आर्थिक गतिविधियां भी रफ्तार पकड़ने लगी है और शेयर मार्केट तेजी से नई ऊंचाईयों को छू रही है। बुधवार को BSE का 30 शेयरों वाला सूचकांक सेंसेक्स 227.34 अंकों की वृद्धि के साथ अपने सर्वकालिक उच्च स्तर 44,180.05 पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का निफ्टी 64.05 अंकों की बढ़त हासिल करते हुए 12,938.25 पर जाकर रुका। गौरतलब है कि निफ्टी के लिए यह अभी तक का सबसे ऊंचा स्तर है। शेयर मार्केट के जानकारों के अनुसार बाजार के इस शानदार प्रदर्शन में बैकिंग, ऑटोमोबाइल व इंजीनियरिग सेक्टर के शेयरों का सबसे बड़ा योगदान रहा। इस सेक्टर के निवेशकों को जबरदस्त रिटर्न मिल रहा रहै। इसके अलावा भारतीय बाजार पर विदेशी निवेशकों के बढ़ रहे भरोसे और सकारात्मक वैश्विक संकेतों ने निवेशकों का मनोबल ऊंचा बनाए रखा।

महिंद्रा एंड महिंद्रा का शानदार प्रदर्शन

सेंसेक्स पैक में 10.76 प्रतिशत की वृद्धि के साथ महिद्रा एंड महिद्रा का प्रदर्शन सबसे बेहतरीन रहा। महिद्रा एंड महिद्रा कंपनी का प्रति शेयर भाव 52 सप्ताह के उच्च स्तर पर पहुंचते हुए 705.60 रुपए के स्तर तक पहुंचकर बंद हुआ। इसके अलावा इंजीनियरिग क्षेत्र की अग्रणी कंपनी एलएंडटी के शेयरों में भी 6.15 प्रतिशत की तेजी दर्ज की गई।

कंपनी के प्रति शेयर का मूल्य 1,147.75 रुपए के स्तर पर पहुंच गया। इसके अलावा इंडसइंड बैंक, बजाज फिनसर्व, एसबीआई, बजाज फाइनेंस, ICICI बैंक, कोटक महिद्रा बैंक और एक्सिस बैंक ने भी शानदार रिजल्ट दिए हैं। दूसरी ओर, एचयूएल, ITC, टाइटन, टीसीएस, भारती एयरटेल व इन्फोसिस के शेयरों में अपेक्षित परिणाम देखने को नहीं मिले। इन सभी में नरमी का माहौल देखने को मिला।

मिडकैप व स्मॉलकैप का प्रदर्शन बेहतरीन

BSE में बड़े स्तर पर मिडकैप व स्मॉलकैप का प्रदर्शन भी बढ़िया रहा। इन सूचकांकों में 1.22 प्रतिशत तक की वृद्धि दर्ज की गई। बैकिंग, ऑटो एवं इंजीनियरिग, कैपिटल गुड्स, इंडस्ट्रियल्स, रियल्टी और फाइनेंस इंडेक्स में 3.72 प्रतिशत तक की बढ़त दर्ज की गई। वहीं एफएमसीजी, इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, टेलीकॉम और हेल्थकेयर सेक्टर में नरमी का माहौल रहा। सिर्फ संकटग्रस्त लक्ष्मी विलास बैंक के शेयर भाव में ही 20 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली। गौरतलब है कि इस बैंक पर RBI ने कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं।

विदेशी संस्थागत निवेशकों का शेयर बाजारों पर भरोसा

स्थानीय समेत विदेशी संस्थागत निवेशकों का शेयर बाजारों पर भरोसा बढ़ा है, जिससे निवेशकों का एक बड़ा वर्ग प्रोत्साहित है। इधर कोरोना वैक्सीन की परीक्षण सफलता से वैश्विक बाजार में भी उत्साह का माहौल हैं। रिलायंस सिक्युरिटीज के इंस्टीट्यूशनल बिजनेस हेड अर्जुन यश महाजन ने कहा कि कोरोना वैक्सीन की परीक्षण सफलता से निवेशकों में जबरदस्त उत्साह है। घरेलू के साथ-साथ विदेशी संस्थागत निवेशक भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार पकड़ने के प्रति पूरी तरह आश्वस्त हैं।

सिर्फ जापान के बाजार में दिखी गिरावट, पूरे एशिया में उछाल

बुधवार को जापान के बाजार में ही मंदी देखने को मिली, लेकिन एशिया के सभी बड़े बाजार में सूचकांक में बढ़ोतरी देखने को मिली। विदेशी संस्थागत निवेशकों का प्रदर्शन भारतीय अर्थव्यवस्था की मजबूती के प्रति मजबूत भरोसे को दर्शा रहा है। चालू वित्त वर्ष (2020-21) की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में FPI के जरिए भारतीय शेयर बाजार में 6.3 अरब डॉलर यानी लगभग 47,250 करोड़ रुपए का निवेश किया गया।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस