नई दिल्ली। सरकार ने उन रजिस्‍‍‍‍‍टर्ड Start ups को एंजल टैक्स से राहत दे दी है, जिनसे आयकर विभाग ने टैक्स वसूल करने का आदेश दिया है।

सरकार के इस कदम का उद्देश्य वास्तविक उद्यमियों को राहत देना है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने इस आशय की अधिसूचना जारी कर दी है।

इससे पहले CBDT ने उन Start ups को एंजल टैक्स में राहत दी थी जो स्क्रूटनी के दायरे में तो आए हैं लेकिन अब तक टैक्स वसूली का नोटिस नहीं मिला है।

क्‍या कहता है कानून

आयकर कानून की धारा 56(2)(सात) के तहत अगर कोई उद्यमी एक शेयर को उसके अंकित मूल्य से अधिक मूल्य यानी प्रीमियम पर बेचता है, तो उसे आय माना जाएगा और उस पर टैक्स देना होगा।

बहुत से Start ups ने इस तरीके से एंजल निवेशकों से धनराशि जुटाई। इसके बाद आयकर विभाग की ओर से Start ups को आयकर के नोटिस जाने लगे।

ऐसे मामले एंजल टैक्स के नाम से चर्चित हुए। लोकल सर्किल्स के चेयरमेन सचिन तापड़िया ने कहा, सरकार ने एंजल टैक्स की समस्या को नवीनतम अधिसूचना के जरिये अंततः सुलझा दिया है।