रिलायंस इंडस्ट्रीज के जियो प्लेटफॉर्म्स में 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी के लिए विस्टा इक्विटी पार्टनर्स 11,367 करोड़ रुपये निवेश करेगी। यह पिछले तीन हफ्तों के भीतर जियो प्लेटफॉर्म्स में तीसरा बड़ा इंवेस्टमेंट है।

नई डील के बाद जियो प्लेटफॉर्म्स का इक्विटी मूल्य 4.91 लाख करोड़ रुपए और एंटरप्राइज वैल्यू 5.16 लाख करोड़ रुपए आंकी गई है। जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश करने के बाद विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, रिलायंस और फेसबुक के बाद सबसे बड़ा निवेशक बन जाएगी। अब तक जियो प्लेटफॉर्म्स ने 3 अग्रणी टेक्नोलॉजी निवेशकों से 60,596.37 करोड़ रुपए जुटाए हैं।

अप्रैल में फेसबुक के निवेश की तुलना में विस्टा का निवेश 12.5 प्रतिशत प्रीमियम पर हुआ है। इस सप्ताह की शुरुआत में जियो में सिल्वर लेक ने निवेश किया था। वह निवेश भी फेसबुक के साथ डील के मुकाबले प्रीमियम पर था।

विस्टा इक्विटी पार्टनर्स एक अमरिकी निवेश फर्म है, जो विशेष रूप से टेक्नोलॉजी और सॉफ्टवेयर कंपनियों में पैसा लगाती है। विस्टा दुनिया की 5वीं बड़ी एंटरप्राइज सॉफ्टवेयर कंपनी है, जिसका कम्युलेटिव कैपिटल कमिटमेंट 57 अरब डॉलर से अधिक का है। एंटरप्राइज सॉफ्टवेयर निवेश में कंपनी का अनुभव 20 वर्षों से ज्यादा का है। विस्टा पोर्टफोलियो की भारत में स्थित कंपनियों में 13,000 से अधिक कर्मचारी काम करते हैं।

सेंसेक्स में 199 अंकों की तेजी

मुंबई (एजेंसी)। प्रतिकूल परिस्थितियों में भी पिछले दो हफ्तों के दौरान रिलायंस ग्रुप के जियो प्लेटफॅार्म्स में तीसरे इक्विटी निवेश की घोषणा का असर शेयर बाजार पर भी हुआ। रिलायंस इंडस्ट्रीज की अगुवाई में शुक्रवार को सेंसेक्स और निफ्टी बढ़त पर बंद हुए

ट्रेडरों के मुताबिक शेयर बाजार के सेंटीमेंट पर डॉलर के मुकाबले रुपए में मजबूती का भी असर हुआ। सेंसेक्स 199.32 अंकों की तेजी के साथ 31,642.70 पर और निफ्टी 52.45 अंक चढ़कर 9,251.50 पर बंद हुआ। सेंसेक्स की बढ़त में सबसे अधिक योगदान रिलायंस इंडस्ट्रीज का रहा। कंपनी के शेयर में तीन प्रतिशत से ज्यादा उछाल आया।

ब्ल्यूचिप शेयरों में हिंदुस्तान यूनिलीवर ने सबसे अधिक 4.81 प्रतिशत बढ़त ली। इसके अलावा नेस्ले इंडिया, टेक महिंद्रा और सनफार्मा के शेयरों में भी तेजी रही। दूसरी ओर महिंद्रा एंड महिंद्रा, एक्सिस बैंक, एनटीपीसी और इंडसइंड बैंक के शेयर 3.87 प्रतिशत गिरकर बंद हुए।

साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स में 2,074.92 अंक (6.15 प्रतिशत) और निफ्टी में 608.40 अंक (6.17 प्रतिशत) गिरावट दर्ज की गई।

एसबीआइ कार्ड्‌स का मुनाफा 66 प्रतिशत घटा

मुंबई (एजेंसी)। एसबीआई कार्ड्स एंड पेमेंट सर्विसेज की चौथी तिमाही के नतीजे कमजोर रहे। जनवरी-मार्च, 2020 तिमाही में कंपनी का मुनाफा 66.5 प्रतिशत घटकर 83.5 करोड़ रुपए रह गया। इस दौरान कंपनी की आय 21 फीसदी बढ़कर 2,510 करोड़ रुपए रही, जो पिछले साल की समान तिमाही में 2,076 करोड़ रुपए थी। मार्च 2020 तिमाही में एसबीआई कार्ड्स का ग्रॉस एनपीए 2.01 प्रतिशत रहा, जो पिछले साल की इसी तिमाही में 2.44 प्रतिशत था।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना