Ambikapur News: अंबिकापुर। छत्तीसगढ़ की सत्ता में वापसी को लेकर भाजपा अब चुनावी मोड पर आ चुकी है।बस्तर में चिंतन के बाद भाजपा कल से सरगुजा संभाग के सूरजपुर,बलरामपुर, सरगुजा जिले के शक्ति केंद्रों की व्यवस्था को लेकर मंथन करेगी।भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय, संभाग प्रभारी नारायण चंदेल और तीनों जिलों के प्रभारियों की मौजूदगी में विधानसभावार शक्ति केंद्र प्रभारी, संयोजक और सह संयोजकों का विधानसभावार सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है।

14 सितंबर को सूरजपुर जिले के तीन,15 सितंबर को बलरामपुर जिले के दो और 16 सितंबर को सरगुजा जिले की तीन विधानसभा सीटों के शक्ति केंद्र प्रभारी,संयोजक और सह संयोजकों का सम्मेलन होगा।एक-एक सम्मेलन में लगभग 250-250 पदाधिकारी शामिल होंगे।सीतापुर विधानसभा का सम्मेलन मैनपाठ में होगा जबकि लुंड्रा और अंबिकापुर विधानसभा का सम्मेलन अंबिकापुर के राजमोहिनी देवी भवन में होगा।इन सम्मेलनों में शक्ति केंद्रों के अंतर्गत बूथों में गठित समितियों की चर्चा होगी।

प्रत्येक बूथ में सदस्य,अध्यक्ष और पालक नियुक्त किए गए है।इसी सम्मेलन में बूथ इकाई तक की व्यवस्था पर जमीनी स्तर की पड़ताल होगी।संगठन स्तर पर जो व्यवस्था बनाई गई है उसके तहत एक शक्ति केंद्र में पांच से छह बूथों को शामिल किया गया है।बूथ अध्यक्ष,पालक और सदस्यों के सत्यापन की व्यवस्था भी बनाई गई है ताकि बूथ स्तर पर भी एक मजबूत और सशक्त टीम तैनात रहे।आखिरी में कार्यकर्ता सम्मेलन का भी प्रस्ताव है लेकिन उसमें अभी वक़्त लगेगा।

आगामी चुनाव को लेकर भाजपा की संगठनात्मक गतिविधियां तेज हो गई है।अभी से ही मैदान में उतरकर पार्टी के पक्ष में वातावरण बनाने को लेकर खाका तैयार कर लिया गया है।सरगुजा,सूरजपुर और बलरामपुर जिले के सभी विधानसभा में होने वाले सम्मेलनों की तैयारियां पूरी हो चुकी है।जिला संगठन द्वारा अपेक्षित लोगों की सूची और आयोजन स्थल की व्यवस्थाओं का जायजा लेकर समयबद्ध कार्यक्रम तैयार किया गया है।

पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने सरगुजा संभाग में सबसे कमजोर प्रदर्शन किया था।संभाग के पांच जिलों के 14 विधानसभा सीटों में से एक भी सीट पर भाजपा को जीत नहीं मिल सकी थी।कांग्रेस ने सभी 14 सीटें जीतकर ऐतिहासिक प्रदर्शन किया था लेकिन इस बार भाजपा सरगुजा संभाग में फिर से वापसी की तैयारी में है।छत्तीसगढ़ की राजनीति में सरगुजा और बस्तर के रास्ते सत्ता प्राप्ति को अहम माना जाता है।बस्तर से छत्तीसगढ़ में चुनावी बिगुल फूंकने वाली भाजपा ने अगले मिशन मोड़ पर सरगुजा संभाग को ही रखा है।

राज्य सरकार पर वादाखिलाफी को लेकर सरगुजा में भी भाजपा लगातार हमलावर रही है।अब किसानों के मुद्दे को लेकर भाजपा मुखर है।मंगलवार को सरगुजा के सभी आठ तहसीलों में भाजपा का सांकेतिक विरोध प्रदर्शन होगा जिसमें पदाधिकारी-कार्यकर्ता रैली निकालकर राज्यपाल के नाम तहसीलदारों को ज्ञापन सौंपेगी।किसानों को समय पर खाद उपलब्ध कराने,समर्थन मूल्य पर धान खरीदी,बिजली की अघोषित कटौती,सिंचाई सुविधाओ में बढोत्तरी तथा सूखे की स्थिति में किसानों को राहत देने जैसी मांग की जाएगी।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local