अंबिकापुर।(नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्वच्छता में अंबिकापुर शहर में अपनी स्थिति को बरकरार रखा है।एक लाख से तीन लाख की आबादी वाले शहरों में देश में दूसरे स्थान पर है। पहला स्थान एक बार फिर एनडीएमसी को मिला है। अंबिकापुर शहर में 50 फीसद सीवरेज सिस्टम न होने के कारण लगातार दूसरी बार नुकसान हुआ है। वाटर प्लस और सर्टिफिकेशन ने लगभग 600 अंकों का नुकसान किया और दूसरे स्थान पर एक बार फिर आना पड़ा। आल ओअर रैंकिंग में अंबिकापुर दसवें स्थान पर हैं, वही एक बार फिर अंबिकापुर को बेस्ट सेल्फ संस्टेबल(स्वच्छता में आत्मनिर्भर) का अवार्ड मिला है।

देश की राजधानी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु की उपस्थिति में आयोजित कार्यक्रम में भारत सरकार के आवासन व शहरी कार्य मंत्री कौशल किशोर ने सम्मान प्रदान किया। महापौर डॉ अजय तिर्की, तत्कालीन आयुक्त व वर्तमान बलरामपुर कलेक्टर विजय दयाराम के के साथ वर्तमान नगर निगम आयुक्त प्रतिष्ठा ममगई, नोडल अधिकारी संतोष रवि, स्वच्छता दीदी शशिकला सिन्हा ने पुरस्कार हासिल किया।आयोजन में स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के परिणाम घोषित किए गए जिसमें अंबिकापुर को भारत सरकार आवासन व शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी द्वारा पुरस्कार की घोषणा की गई।

भारत सरकार आवासन एवम् शहरी कार्य मंत्री राज्य मंत्री कौशल किशोर ने बेस्ट सेल्फ संस्टेबल सिटी अवार्ड से पुरस्कृत किया। अंबिकापुर को भारत सरकार द्वारा फाइव स्टार शहर, बेस्ट सेल्फ संस्टेबल सिटी अवार्ड व एक लाख से तीन लाख जनसंख्या श्रेणी में देश में द्वितीय स्थान से पुरस्कृत किया गया।देश के टाप 100 नगरों में देश में दसवां स्थान अंबिकापुर को मिला है।

इंडियन स्वच्छता लीग में हमारा शहर देश में प्रथम-

स्वच्छता के अमृत महोत्सव के तहत 17 सितंबर को आयोजित इंडियन स्वच्छता लीग में अंबिकापुर की टीम को एक लाख से तीन लाख की जनसंख्या वाले नगरों में देश में प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया है। पखवाड़े भर चले इस आयोजन की शुरुआत मरीन ड्राइव से हुई थी, जहां बड़ी रैली निकली थी और शहर के नागरिकों ने भी इसमें भागीदारी निभाई थी। कंपनी बाजार में श्रमदान किया था। इसके बाद लगातार अलग-अलग आयोजन हुए थे जिसका दस्तावेजीकरण भी किया गया था। पखवाड़े भर चले इस आयोजन में अंबिकापुर ने देश में पहला स्थान हासिल किया।

ये काम निरंतर जारी थे,अंक भी मिले-

स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 कुल 7500 अंक का था जिसमें तीन हजार अंक डाक्यूमेंटेशन,डायरेक्ट आब्जर्वेशन, 2250 सर्टिफिकेशन, 2250 सिटीजन फीडबैक के लिए निर्धारित था। 2022 सर्वेक्षण में कचरे का कलेक्शन एव निपटान के साथ वेस्ट रिडक्शन हेतु अंबिकापुर में कई नवाचार किए गए।प्लास्टिक से दाना बनाने, सीमेंट प्लांट हेतु आरडीएफ, दीदी बर्तन बैंक,नेकी की दीवार का प्रयोग कर जनसहभागिता सुनिश्चित की थी।इस सर्वेक्षण में अंबिकापुर द्वारा तरल अपशिष्ट प्रबंधन में नालियों के पानी के उपचार हेतु प्राकृतिक पद्धति का प्रयोग कर वाटर रिसाइकलिंग के क्षेत्र में कार्य किया गया। उपचारित जल का प्रयोग निर्माण कार्य व उद्यानों में किया जाता है।नगर के 36 सार्वजनिक व सामुदायिक शौचालयों का सुंदरीकरण कर सुविधा सुनिश्चित की गई। स्वच्छता श्रृंगार योजना के माध्यम से समूह की दीदियों को रोजगार के साथ शौचालय संचालन की व्यवस्था की गई। नगर से निकलने वाले मल प्रबंधन हेतु एफएसटीपी प्लांट संचालित किया जा रहा है। नगर में चार नवनिर्मित प्राइवेट कालोनियों में सीवरेज नेटवर्क और सीवर ट्रीटमेंट प्लांट बिल्डर द्वारा लगाया गया है।

नगर के तीन हजार से ज्यादा परिवारों द्वारा होम कंपोस्टिंग के द्वारा गीले कचरे का घरों में निष्पादन किया जा रहा है।निगम द्वारा तैयार खाद का विक्रय कर आय अर्जन व जैविक खेती को बढ़ावा देने में भी कार्य हो रहा है। नगर में निकलने वाले मलबे के प्रोसेसिंग कर विभिन्ना उत्पाद तैयार किए जा रहे हैं।

जनप्रतिनिधि व नागरिकों की सहभागिता-

सभी अभियानों में निकाय के जनप्रतिनिधि,अधिकारी,कर्मचारी, स्वच्छता दीदियों द्वारा जन सहयोग से अंबिकापुर को स्वच्छता के क्षेत्र में अग्रणी बनाए रखने के लिए कार्य किया गया है।निगम क्षेत्र में विभिन्ना एनजीओ,धार्मिक संगठन के सहयोग से नगर में स्वच्छता रैली, सफाई अभियान आयोजित कर नागरिक सहभागिता सुनिश्चित की गई।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close