अम्बिकापुर। Ambikapur News: सूरजपुर जिले के प्रतापपुर विकासखंड के ग्राम बैकोना के देउरबाड़ी मंदिर के समीप एक प्राचीन कुएं से बड़े आकार की पुरानी ईंटें निकलीं हैं। यह ईंटें ग्यारहवीं शताब्दी की प्रतीत होतीं हैं। यहां के किसान ने कुएं की खोदाई शुरू की तो बड़े आकार की ईंट निकलने लगीं। वर्तमान समय के हिसाब से ईंट अलग साइज के हैं। गांव के ही एक शिक्षक व सूरजपुर जिला पुरातत्व संघ के सदस्य अजय कुमार चतुर्वेदी ने इसकी लिखित जानकारी सूरजपुर कलेक्टर को दे दी है।

बताया गया कि बैकोना स्थिति देउरबाड़ी शिव मंदिर के समीप गोपाल राम की बाड़ी में एक पुराना कुआं है जो खंडहर हो चुका है। इसे पाटने से पहले किसान ईंटों को निकाल रहा है। निकाली गई ईंट की लंबाई 13.6 इंच है। लंबाई 7.1 इंच व चौड़ाई व 3.1 इंच ऊंचाई है। किसान गोपाल राम की उम्र 75 वर्ष है। उसने बताया है कि लगभग 60 वर्ष पहले उसके पिता ने इस कुएं का निर्माण किया था, तब अपनी बाड़ी से खोदकर इन ईंटों को निकाल कुएं की जोड़ाई में उपयोग किया था।

उधर 25 दिसंबर 2009 को दउरबाड़ी शिव मंदिर बैकोना के निर्माण के दौरान भी खोदाई में इसी तरह की बड़ी-बड़ी दीवारों के अवशेष नजर आए थे। पुरातत्व संघ के सदस्य अजय कुमार चतुर्वेदी ने इन सारी चीजों की जानकारी कलेक्टर को देते हुए अवगत कराया है कि पुरानी ईंटों के निकलने से बैकोना में पुरातात्विक स्थल होने की प्रबल संभावनाएं हैं।

इस स्थल पर देउर बाड़ी मंदिर आसपास का परीक्षण पुरातत्व विभाग रायपुर को करनी चाहिए। इस स्थल के संरक्षण हेतु दिशा निर्देश भी जारी होनी चाहिए। इसके पूर्व भी यहां कई पुरातत्व चीजें चर्चाओं में रही हैं। अजय कुमार चतुर्वेदी बताते हैं कि जो ईंट निकली है वह काफी बड़े आकार की है। वर्तमान समय में बनने वाली ईंटों से आकार काफी बड़ी है और काफी मजबूत है।उन्होंने बताया कि ग्रामीण को फिलहाल समझाइश दी गई है कि ईंट का उपयोग किसी अन्य काम में न करें। प्रशासन के निरीक्षण के बाद ही निर्माण करें।

11वीं शताब्दी के होने का अनुमान

पुरातत्व संघ के सदस्य अजय कुमार चतुर्वेदी के मुताबिक बैकोना से लगे ऐतिहासिक शिवपुर में स्थापित मन्दिर 11 वीं शताब्दी के आसपास की हैं।शिवपुर बैकोना से मात्र डेढ़ किलोमीटर दूर है,ऐसे में अनुमान लगाया जा सकता है कि बैकोना के इस कुएं के ईंट भी इसी समय के आसपास की हैं।बैकोना में देउर बाड़ी मन्दिर भी उसी समय से स्थापित है। बैकोना से प्रतापपुर ब्लॉक मुख्यालय करीब 10 किलोमीटर है।

प्रतापपुर मंदिरों की नगरी है। यह सभी मन्दिर भी इसी के समकालीन हैं। प्रतापपुर में वर्तमान में कुल 11 प्राचीन मन्दिर हैं। प्रतापपुर के आस-पास ग्रामीण क्षेत्रों में भी बहुत से प्राचीन मंदिर आज भी हैं। अनुमान है इसी दौरान बैकोना में मन्दिर बनाए गए होंगे। तब इसी ईंट से जोड़ाई की गई होगी। यह मंदिर समय के साथ जमीन में दफन हो गए।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना