अम्बिकापुर। Ambikapur News त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव संपन्न होने के बाद शिकवा शिकायतों का दौर शुरू हो गया है । लुंड्रा विकासखंड के ग्राम पंचायत कोरिमा में चौथी बार सरपंच बनी महिला प्रभा केरकेट्टा के पक्ष में मतदान कर्मचारियों द्वारा अप्रत्यक्ष रुप से सहयोग किए जाने का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने नए सिरे से मतगणना कराने की मांग की है ।

ग्रामीणों का आरोप है कि कोरिमा पंचायत के आश्रित गांव बांसा में मतगणना के समय सभी प्रत्याशियों के एजेंटों को आधे घंटे के लिए कक्ष से बाहर निकाल दिया गया था। उसी दौरान गड़बड़ी किए जाने की आशंका ग्रामीणों ने जताई है। गुरुवार को ग्राम पंचायत कोरीमा के ग्रामीण बड़ी संख्या में कलेक्ट्रेट पहुंचे थे। यहां सरपंच प्रत्याशी परमनिया के पक्ष में आए लोगों ने बताया कि उन्हें महज 23 मतों से हार का सामना करना पड़ा।

उन्‍होंने आरोप लगाया कि जो महिला प्रत्याशी चुनाव जीती है ।वह लगातार तीन बार सरपंच रह चुकी है। तीनों बार मतगणना में हेरफेर कर चुनाव जिताने का काम हुआ है ।ग्रामीणों ने बताया कि सरपंच पद के चुनाव में 4 प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे। चौथी बार सरपंच बनी प्रत्याशी के समर्थन में ज्यादा गांव वाले नहीं थे फिर भी वह सरपंच निर्वाचित हो गई इसके पीछे मतदान कर्मचारियों की भूमिका को भी ग्रामीणों ने संदिग्ध बताया है।

ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि चुनाव ड्यूटी में आये कर्मचारियों को बीते 2 फरवरी की रात विजयी प्रत्याशी के घर में देखा गया था। मतदान के ठीक 1 दिन पहले पार्टी मनी थी जबकि चुनाव ड्यूटी में आए कर्मचारियों का भोजन स्कूल में ही बनाया गया था ।ग्रामीणों का दावा है कि पीठासीन अधिकारी को एक दिन पहले ही संपूर्ण परिस्थितियों से अवगत करा चुके थे।

उनके द्वारा आश्वासन भी दिया गया था कि पूर्व के चुनावों जैसी परिस्थिति इस बार नहीं होगी ।ग्रामीणों का कहना था कि जिस महिला को चौथी बार सरपंच निर्वाचित घोषित किया गया है उसके बदले कोई भी बन जाता तो उन्हें आपत्ति नही थी क्योंकि गांव वाले विजयी प्रत्याशी के पक्ष में थे ही नही फिर भी वह कैसे जीती यह जांच का विषय है। एसडीएम अजय त्रिपाठी ने बताया कि ग्रामीण मतों की गिनती पुनः कराने की मांग को लेकर आए थे ।

पीठासीन अधिकारी द्वारा मतगणना के बाद परिणाम की घोषणा कर दी गई थी उस दौरान पुनर्गणना का कोई आवेदन प्रस्तुत नहीं किया गया था ,इसलिए पुनगर्णना नहीं की गई ।कोरीमा के ग्रामीणों को समझाइश दी गई है कि वे पंचायत राज अधिनियम की धारा 122 के तहत आवेदन प्रस्तुत करें ,उस आवेदन को निर्वाचन याचिका के रूप में सुनवाई की जाएगी और निर्णय दिया जाएगा।

Posted By: Hemant Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close