अंबिकापुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। पति से अनबन के बाद अंबिकापुर में रह रही महिला और उसकी पुत्री को बलपूर्वक कार में ले जाने की शिकायत पर पुलिस ने आरोपित पति सहित अन्य के विरुद्ध अपराध कायम किया है। इसकी खबर चंबोथी तालाब के पास रहने वाली पड़ोस की महिला ने पुलिस को दी थी। कार सवारों के द्वारा मां-बेटी के अपहरण की जानकारी मिलने पर पुलिस नाकाबंदी करके कार सवार के तलाश में जुटी और बलरामपुर में इन्हें कब्जे में ले लिया।

ज्योत्सना तिवारी 32 वर्ष एक महिला का विवाह वर्ष 1999 में रामकुमार तिवारी से हुआ है, जो रामानुजगंज के तहसील कार्यालय में लिपिक के पद पर पदस्थ है व वर्तमान में निलंबित है। दोनों के दांपत्य जीवन के बीच दो पुत्र एक पुत्री हैं। पुत्री अपनी मां के साथ पिछले 2-3 माह से अंबिकापुर के चंबोथी तालाब के पास रहती है। किराए के मकान में रहते हुए घरेलू काम कर महिला अपना और पुत्री का जीवन बसर करती है। शनिवार को देर शाम महिला का पति रामकुमार अपने साथी गौर दास, उत्तम, सीडी तिवारी के साथ अल्टो कार में पहुंचा और दोनों मां-बेटी को बलपूर्वक मारपीट करते हुए कार में डालकर रामानुजगंज की ओर ले जाने लगा।

पड़ोस में रहने वाली ज्योत्सना की सहेली गीता एक्का शोर सुनकर बाहर निकली और मां-बेटी को जबरन कार में बैठाकर ले जाते देखा। अनहोनी की संभावना पर कोतवाली पुलिस को उसने इसकी सूचना दी। नाकेबंदी की कोतवाली पुलिस ने बलरामपुर तक कार सवारों का पीछा किया और इन्हें कब्जे में ले लिया। कोतवाली पुलिस ने आरोपितों के विरुद्ध धारा 365, 294, 323, 506, 34 का अपराध दर्ज कर लिया है।

Posted By: Nai Dunia News Network