अम्बिकापुर। Ambikapur News15 दिन विलम्ब से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी आरंभ होने के कारण समितियों में तीसरे दिन से ही धान की आवक बढ़ने लगी है ।किसानों को राहत देने की मंशा से प्रशासनिक स्तर पर सभी समितियों के माध्यम से किसानों को पहले ही टोकन जारी करा दिया जा रहा है। टोकन से धान की खरीदी हो रही है, ताकि बिचौलियों और कोचियों को किसी प्रकार का कोई मौका ना मिल सके ।

मंगलवार को सरगुजा, बलरामपुर ,सूरजपुर व कोरिया जिले के 700 किसानों को टोकन जारी किया गया था ।अधिकांश किसान धान लेकर समितियों में पहुंच चुके थे। देर शाम तक किसानों के धान की तौलाई का काम चल रहा था। शासन द्वारा खरीदी के तत्काल बाद ऑनलाइन एंट्री का भी प्रावधान किया गया है ताकि किसी भी प्रकार की गड़बड़ी का कोई मौका ही ना रहे।

धान के समर्थन मूल्य को लेकर केंद्र और राज्य सरकार के बीच जारी लड़ाई से निराश किसानों में धान खरीदी आरंभ हो जाने से उत्साह का माहौल है ।राज्य सरकार द्वारा वर्तमान में केंद्र सरकार के समर्थन मूल्य के अनुरूप ही किसानों को धान का भुगतान किया जाएगा। अंतर की राशि बाद में दी जाएगी ।राज्य सरकार पहले ही वादा कर चुकी है कि किसानों से 25 सो रुपए प्रति क्विंटल की दर से ही समर्थन मूल्य पर धान खरीदा जाएगा। यह अलग बात है कि वर्तमान में संपूर्ण राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है।

धान खरीदी आरंभ होने के शुरुआती दो दिनों तक समितियों में धान की आवक ज्यादा नहीं थी ।तीसरे दिन समितियों में धान लेकर आने वाले किसान बढ़ गए । धान खरीदी के लिए टोकन की व्यवस्था की गई है। किसानों को टोकन के साथ वह तारीख भी दी जा रही है जिस दिन उन्हें धान लेकर समितियों में पहुंचना है ।

इस व्यवस्था से बिचौलियों और कोचिए को कोई अवसर ही फिलहाल नहीं मिल रहा है ।वर्तमान में वास्तविक किसान ही टोकन के लिए समितियों में संपर्क कर रहे हैं ।पहुंच और प्रभाव के विपरीत 'पहले आओ पहले पाओ' की तर्ज पर टोकन लेने वाले किसान बड़ी आसानी से समितियों में धान बिक्री कर रहे हैं।

सरगुजा में सर्वाधिक टोकन हुआ जारी

समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के तीसरे दिन सरगुजा जिले में 244, बलरामपुर जिले में 26, सूरजपुर जिले में 240 तथा कोरिया जिले में 190 किसानों को टोकन जारी किया गया था। अधिकांश किसान समितियों में धान लेकर भी पहुंच गए थे ।धान खरीदी के पहले दिन सरगुजा जिले में सिर्फ 14 टोकन जारी हुए थे। इनमें से 2 किसानों का धान रिजेक्ट कर दिया गया था। 2 दिसंबर को सरगुजा जिले में 40 किसानों को टोकन जारी किया गया था इनमें से 38 किसानों ने अपना धान बेच लिया है।

बलरामपुर जिले में खास निगरानी

सरगुजा ,सूरजपुर और कोरिया जिले में धान बिक्री का टोकन प्राप्त करने वाले किसानों की संख्या बढ़ती जा रही है लेकिन समर्थन मूल्य पर धान खरीदी में गड़बड़ी के लिए बदनाम बलरामपुर जिले में प्रशासन की सख्त कार्यवाही से फिलहाल समितियों में धान लेकर आने वाले किसानों की संख्या बेहद कम है ।

धान खरीदी के पहले दिन बलरामपुर जिले में एक भी टोकन जारी नहीं हुआ था दूसरे दिन टोकन जारी हुआ और खरीदी भी हुई लेकिन इसकी संख्या ज्यादा नहीं बढ़ पा रही है। बलरामपुर जिले के सीमावर्ती इलाकों में शासन की मंशा के अनुरूप पूरी पारदर्शिता से धान खरीदी की हुई व्यवस्था ने समिति के कर्मचारियों को भी मुश्किल में डाल दिया है।

Posted By: Hemant Upadhyay