अंबिकापुर । सरगुजा डिस्ट्रिक्ट किक बाक्सिंग एसोसिएशन के द्वारा मास्टरमाइंड स्कूल में प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। चैंपियनशिप के आयोजन में एसोसिएशन के सचिव अमन गुप्ता सहित सावित्री तिवारी, चंद्रमणि मिंज, नितिन श्रीवास्तव, अंजली सिंह, वर्षा गुप्ता, सरवर एक्का व ली ठाकुर का सहयोग रहा। मास्टरमाइंड स्कूल के प्रचार्य मृत्युंजय पांडे ने खेल का शुभारंभ किया। एसोसिएशन के द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता में गांधी स्टेडियम में प्रशिक्षण ले रहे बच्चे भी शामिल हुए व कराटे क्लब भट्ठी रोड, मास्टर माइंड स्कूल चोपड़ापारा के बच्चों ने भाग लिया। विजेताओं को पदक और प्रमाण दिया गया। बच्चों ने 18 गोल्ड, आठ सिल्वर और दो कांस्य पदक जीता।

बाक्सिंग मैच ततामी मैट्रिक इवेंट और रिंग इवेंट में बच्चों ने भाग लिया जिसमें ततामी मैट इवेंट में अर्शदीप सिंह पदम,आदित्य नारायण सिन्हा, ऋषि सोनी, दिव्यम दास गुप्ता, शौर्य नायक, आदित्य कुमार सोनी, शौर्य वर्धन सिंह, आर्यन गुप्ता, शिवांश सिन्हा, गौरव राजवाड़े ने गोल्ड मेडल जीता। लड़कियों में आराध्या सिन्हा, सुप्रिया पांडे, अयूब अंसारी, अरना गुप्ता, अल्फिया खान, प्रज्ञा सिंह, तनु प्रिया दत्ता, प्रियांशी सोनी ने अपने-अपने श्रेणी मेें गोल्ड मेडल जीता। वैभ्ाव नायक, सरवन सोनी, अविनाश यादव, गज नफर खान, आदित्य यादव, विराज सोनी और माधुरी गुप्ता को ब्रांच मेडल जीता। किक बाक्सिंग के रिंग इवेंट्स में शिवांचल दास को गोल्ड मेडल और बालिका में प्रिया सारथी, स्वाति राजवाड़े वर्षा रानी बरा ने गोल्ड मेडल जीता। सभी विजेता बच्चे कोरबा में तीन से पांच जून को होने वाले नौंवी छत्तीसगढ़ राज्य स्तरीय किक बाक्सिंग प्रतियोगिता में शामिल होंगे।

बच्चों की सफलता में माता-पिता की भूमिका अहम

अंबिकापुर। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय चोपड़ापारा अंबिकापुर में समर कैंप उमंग 2022 के नौवें दिन को शुक्रिया दिवस के रूप मे मनाया गया। बच्चों ने सभी को हर कार्य के लिए शुक्रिया अदा करने को कहा। नगर निगम आयुक्त विजय दयाराम के ने बच्चोंं के साथ बच्चों जैसा बनकर बातें की। उन्होंने बच्चों को मोटिवेट करते हुए कहा कि हमें किसी भी पद को प्राप्त करने के लिए सर्वप्रथम ख्वाब देखना होगा। उसके लिए मेहनत करते हुए हमें स्वयं पर ध्यान देना होगा कि हमें स्वयं को कहां पर रोकना हैं। उन्होंने कहा कि माता- पिता, शिक्षक, इनका भी बच्चों की सफलता में अहम भूमिका होती हैं। उन्होंने बच्चों के अपने लक्ष्य से संबंधित कई प्रश्नों के जवाब अपने अनुभव के आधार पर बताया। ब्रह्माकुमारी पूजा ने कहा कि लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मेहनत के साथ लगन, त्याग भी चाहिए। सदैव उम्मीद का दीया अपने मन में जगा कर रखना होगा। उन्होंने कहा कि जैसा हम लक्ष्य रखेंगे वैसे लक्षण हममें आ जाएगा।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close