अंबिकापुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना संक्रमण से बचाव और रोकथाम के लिए विदेशों के अलावा देश के दूसरे राज्यों से आ रहे लोगों की स्वास्थ्य जांच के साथ होम आइसोलेशन की भी सलाह दी जा रही है। जरूरत पड़ने पर उन्हें शासकीय क्वारंटाइन सेंटर में भी रखा जा रहा है। होम आइसोलेशन की गंभीरता को नजरअंदाज करने वालों के खिलाफ भी सरगुजा पुलिस रेंज में आपराधिक प्रकरण दर्ज करना शुरू कर दिया गया है। समझाइश के बाद अब पूरी सख्ती के साथ गाइड लाइन का पालन कराने की कोशिश की जा रही है।

ताजा मामला सूरजपुर जिले का है। जिले का 22 वर्षीय युवक कुछ दिन पहले नगालैंड से लौटा था। बीते 17 मार्च 2020 को नजदीक के एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में उसकी जांच की गई थी। स्वास्थ्यगत परेशानी नहीं होने से चिकित्सकों ने उसे होम आइसोलेट कर दिया था। युवक को सलाह दी गई थी कि वह कम से 14 दिन घर मे रहेगा और कहीं भी बाहर नहीं निकलेगा। चिकित्सक समय समय पर उसकी निगरानी करेंगे। परिजनों को भी समझाइश दी गई थी कि परिवार का कोई एक सदस्य सतर्कता व सावधानी से उसका ध्यान रखेगा, लेकिन युवक इस समझाइश को नजरअंदाज कर घर छोड़ बाहर घूम फिर रहा था। सूरजपुर थाने के उप निरीक्षक कार्तिकेश्वर जांगड़े, आरक्षक सूरेश साहू एवं गौतम दुबे के साथ लॉकडाउन के दौरान पेट्रोलिंग पर थे, उसी दौरान मोबाईल से सूचना मिली कि नगालैंड से आया युवक चिकित्सक की सलाह को नजरअंदाज कर घूम रहा है। सूचना पर पुलिस टीम भी तत्काल उसके घर पहुंच गई। जांच में पता चला कि युवक सुबह से ही घर पर नहीं है तथा घर से बाहर घूम रहा है। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस टीम ने तत्काल उसकी खोजबीन करा घर मे ही रहने की कड़ी हिदायत दी। युवक के खिलाफ आइपीसी की धारा 188 के तहत मामला भी दर्ज कर लिया गया है।

निर्देशों की अवहेलना न करें

आइजी रतन लाल डांगी ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव और नियंत्रण के लिए जनता से निर्देशों का पालन करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि अपनी और परिवार के दूसरे सदस्यों की सुरक्षा के लिए घर पर रहें, निर्देशों का पालन करें। अफवाहों से बचें और अफवाह न फैलाएं। निर्देशों के उल्लंघन पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network