अंबिकापुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना से बचाव के लिए जिले में स्वास्थ्य विभाग पूरी तरीके से अलर्ट है। आपदा की स्थिति में व्यक्तिगत तौर पर भी हर किसी को सजग और सतर्क रहने की आवश्यकता है। 21 दिन के लॉकडाउन के दौरान हमें कई बातों का ख्याल रखना जरूरी है। इसमें आहार और हमारी दैनिक गतिविधियां काफी महत्वपूर्ण है। अवसाद के बजाय पूरे आत्मबल के साथ इस चुनौती से लड़ने हम सबको मानसिक रूप से भी तैयार होना होगा। वर्तमान परिस्थिति को लेकर नईदुनिया ने मेडिकल कालेज की डाइटिशियन डॉ. सुमन सिंह से चर्चा की तो उन्होंने स्पष्ट कहा कि हम अपने आहार को भी सुरक्षा कवच बना सकते हैं। कोरोना वायरस से बचाव के लिए खाद्य पदाथोर् की भूमिका भी अहम होती है।

डॉ. सुमन सिंह के मुताबिक कोरोना से डरने की नहीं बल्कि आदतों में कुछ सुधार की जरूरत है। पौष्टिक आहार, साफ सफाई और योग व्यायाम से हम अपने आप को पूरी तरीके से स्वस्थ रख सकते हैं। अपने भोजन को ही हमें अपना सुरक्षा कवच बनाना होगा, क्योंकि अच्छा भोजन ही हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। भोजन के साथ नींबू, आंवला लेने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा कि इससे शरीर को विटामिन सी मिल सकेगी। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में कारगर तो है ही साथ ही शरीर में सभी प्रकार के वायरस के खिलाफ लड़ने की क्षमता भी उत्पन्न करती है। यह संक्रमण को होने से रोकता है। यदि कोई संक्रमण से ग्रसित हो भी जाए तो जल्द सेहतमंद होने की पूरी संभावना रहती है, इसके अलावा हरी पत्तेदार सब्जी-भाजी, ताजे फल का सेवन करना ज्यादा लाभप्रद है। विभिन्न किस्मों की दाल, बाजरा, गेहूं के आटे की रोटी भी खाना चाहिए। किसी भी तरह के फ्लू से बचने के लिए बेहतर खानपान और अच्छी दिनचर्या ज्यादा कारगर होती है। इसके अलावा साफ-सफाई की भी अहम भूमिका है। सर्दी जुकाम को ज्यादातर लोग सामान्य मानते हैं और गंभीर नहीं रहते, लेकिन बार-बार सर्दी, जुकाम होने पर वायरस व अन्य संक्रमण आसानी से होने की आशंका रहती है। इसके लिए नीम, तुलसी, काली मिर्च, हल्दी अदरक से बने कार्य का भी प्रयोग करना चाहिए जो हमारे शरीर के प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket