अंबिकापुर। कोतवाली पुलिस ने शुक्रवार को एक ऐसे दिव्यांग को अपने कब्जे में लिया जो शारीरिक रूप से पूरी तरह अशक्त लेकिन आशिकमिजाज है। शंकरगढ़ और जशपुर क्षेत्र की कई लड़कियां इससे परेशान है। बलरामपुर जिले के शंकरगढ़ क्षेत्र की एक लड़की ने इसकी जानकारी पुलिस को दी थी।

बार बार फोन करके परेशान करने से क्षुब्ध लड़की ने शुक्रवार को उसे मिलने के लिए बुलाया। शंकरगढ़ थाना पुलिस से इसकी सूचना कोतवाली पुलिस को मिली और उसे रेलवे स्टेशन से हिरासत में ले लिया। इसकी जानकारी शंकरगढ़ पुलिस को दी गई है, जो उसे अपने कब्जे में लेकर अग्रिम कार्रवाई करेगी।

जानकारी के मुताबिक मध्यप्रदेश के बुरहानपुर सिरपुर निवासी दिव्यांग मिट्ठू यादव पिता रतन यादव 30 वर्ष शंकरगढ़ क्षेत्र की लड़कियों का नम्बर हैक कर उनसे संपर्क करता और अपने झांसे में लेने के बाद मानसिक रूप से प्रताड़ित करता था।

ऐसी ही एक लड़की का नम्बर हासिल कर आरोपित न सिर्फ लड़की बल्कि परिवार के अन्य सदस्यों से भी संपर्क स्थापित कर रहा था। स्कूली शिक्षा से दूर होने के बाद भी मोबाइल में बात ऐसा करता है, जैसे काफी बड़े घराने का हो। मोबाइल चलाने में भी वह काफी एक्सपर्ट है।

किसी सॉफ्टवेयर का उपयोग कर वह आइडिया कंपनी का नम्बर हैक कर लेता था, इसके बाद लड़कियों युवतियों से तरह तरह की बात करके उन्हें प्रभावित करता था। बताया जा रहा है कि एक लड़की के साथ लगभग ढाई माह पूर्व वह अंबिकापुर के एक होटल में रुक चुका है।

इसके बैंक खाते में डेढ़ लाख रुपये हैं, जिसे वह मांग खाकर अर्जित करना बता रहा है। पीड़ित लड़की के बुलावे पर दुर्ग अंबिकापुर ट्रेन से अंबिकापुर पहुंचे आरोपित के गिरफ्तार होने की खबर पर शंकरगढ़ थाना क्षेत्र से लगभग दो दर्जन पीड़ित परिवार के सदस्य अंबिकापुर पहुंचे थे। जब उन्होंने आरोपित को देखा तो वे भी उसकी स्थिति और बातचीत के लहजे को देखकर दंग रह गए।