अम्बिकापुर। मैनपाट के नर्मदापुर निवासी 16 साल के अमन रवि ने फुटबॉल के लिए नियमित पढ़ाई छोड़ दी। फुटबॉल के प्रति उसका जुनून इस कदर हावी है कि वह सुबह और शाम फुटबॉल लेकर नर्मदापुर के खेल मैदान में नजर आता है। फुटबॉल को उंगलियों में नचाने के साथ ही कई आश्चर्यजनक प्रदर्शन करने का सोशल मीडिया में वायरल उसका वीडियो इतना लोकप्रिय हुआ कि सरगुजा अदानी फुटबॉल अकादमी में प्रवेश का रास्ता साफ हो गया और बिलासपुर के आईजी दीपांशु काबरा ने खुद सोशल मीडिया में उसका वीडियो देखकर मोबाइल पर बात की। आईजी ने आश्वस्त किया कि उसे फुटबॉल प्रशिक्षण अकादमी में प्रवेश दिलाने में लिए वे पूरा सहयोग करेंगे।

मैनपाट के नर्मदापुर निवासी अमन रवि ने पांचवी में नवोदय विद्यालय प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की और छठवीं में उसका दाखिला जवाहर नवोदय विद्यालय बसदेइ में हो गया। वहां सीनियर बच्चों को फुटबॉल खेलता देख उसके मन में भी रुचि जागी और उसने भी फुटबॉल खेलना शुरू किया।

नवोदय विद्यालय की ओर से दो बार राष्ट्रीय फुटबॉल प्रतियोगिता में हिस्सा ले चुके अमन रवि ने नवोदय विद्यालय से ही दसवीं तक की पढ़ाई पूरी की। फुटबॉल के प्रति उसमें जुनून इस कदर हावी था, कि उसने फुटबॉल के लिए आगे की नियमित पढ़ाई छोड़ दी और गांव वापस लौट गया।

वर्तमान में वह कक्षा 12वीं की तैयारी कर रहा है, लेकिन उसका पूरा ध्यान फुटबॉल को करियर बनाने में लगा रहता है। मैनपाट के नर्मदापुर में फुटबॉल को लेकर दूसरे बच्चे ज्यादा उत्साहित नजर नहीं आते और न ही अमन को प्रैक्टिस के लिए दूसरे खिलाड़ी मिल पाते हैं, इसके बावजूद दो चार बच्चों को साथ लेकर सुबह शाम मैनपाट के स्टेडियम में फुटबॉल के साथ पसीना बहाता नजर आता है।

सोशल मीडिया पर धूम मचा रहा वीडियो

फुटबॉल को हाथों की उंगलियां और पैरों से नचाने वाले अमन का वीडियो पिछले दिनों सोशल मीडिया में वायरल हुआ। यह वीडियो उसके दोस्तों ने ही तैयार किया था।अभी एकदम सटीक निशाना तो नहीं है फिर भी वह काफी दूर से घरों के रोशनदान, दूर में रखी बाल्टी और अहाते के ऊपर रखें कार्टून में बड़ी आसानी से पैरों के संतुलन से गेंद डालने में सफल हो जाता है। सोशल मीडिया में फुटबॉल के साथ उसका यह वीडियो वायरल होते ही सरगुजा के फुटबॉल प्रेमियों में भी उत्साह जगा।

कई लोगों ने सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफार्म में इसे वायरल किया तो बिलासपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक दीपांशु काबरा ने मोबाइल से उससे संपर्क किया। अमन के मुताबिक आईजी बिलासपुर ने उससे फुटबॉल को लेकर पूछताछ की और यह जानना चाहा कि उसकी इच्छा क्या है? जब उसने कहा कि वह देश के किसी भी फुटबॉल अकादमी में प्रवेश लेकर अपनी खेल प्रतिभा को निखरना चाहता है तो आईजी की ओर से उसे आश्वासन मिला कि वह अपना अभ्यास जारी रखें। इसी सत्र में उसे देश की किसी न किसी फुटबॉल अकादमी में प्रवेश दिलाने में वे अपना पूरा सहयोग करेंगे।

पहले परिजन नही थे राजी

अमन के मुताबिक उनके पिता अखिलेश रवि की नर्मदापुर में किराने की दुकान है। जब वह फुटबॉल को ही करियर बनाने की इच्छा के साथ गांव वापस लौटा तो पहले परिजनों ने सहमति नहीं दी। बाद में उसने यह बताने का प्रयास किया कि फुटबॉल में भी वह कैरियर बना सकता है और नवोदय विद्यालय में पढ़ाई के दौरान ही दो बार राष्ट्रीय स्तर की फुटबॉल प्रतियोगिता में हिस्सा लेकर उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है तो परिजन भी राजी हो गए और फुटबॉल में ही करियर बनाने के लिए उसे प्रेरित करना शुरू किया। घरवालों का सहयोग मिलने के बाद अब अमन अपने उद्देश्य के साथ आगे बढ़ रहा है। उसकी आयु महज 16 साल की है। फुटबॉल को वह संतुलन के साथ अपनी उंगली पर इस तरीके से नचाता है मानो वह कोई बेहद आसान काम हो।

अमन ने बताया कि वह स्ट्राइकर के रूप मे सेंटर फारवर्ड पोजीशन पर खेलता है। नवोदय विद्यालय की रीजन स्तर की फुटबॉल प्रतियोगिता में जब छत्तीसगढ़ की टीम विजेता बनी तो वह उस टीम का कप्तान था। बतौर कप्तान उसे भी मेडल मिला और टीम को प्रशस्ति पत्र के साथ शील्ड प्रदान किया गया था। अगले साल वह नवोदय विद्यालय की भोपाल रीजन जिसमें छत्तीसगढ़ ओडिशा और मध्यप्रदेश के खिलाड़ी शामिल थे, उस रीजन से राष्ट्रीय प्रतियोगिता में कोकराझाद आसाम में खेल चुका है यहां भी भोपाल रीजन ने उत्कृष्ट खेल कौशल का प्रदर्शन किया था। गोल और सूट प्रैक्टिस का। उसका वीडियो सोशल मीडिया में इन दिनों धूम मचा रहा है।

अकादमी में प्रवेश दिलाने का पूरा प्रयास

सरगुजा जिला फुटबॉल संघ के सचिव विकास सिंह ने बताया कि सोशल मीडिया के माध्यम से ही उन्हें अमन की खेल प्रतिभा के संबंध में जानकारी मिली। वीडियो को देखकर पूरा विश्ववास है कि अमन को बेहतर कोचिंग मिले तो वह अच्छा खिलाड़ी बन सकता है। उन्होंने बताया कि अमन की प्रतिभा से लोग प्रभावित हुए हैं। उन्होंने व्यक्तिगत रूप से मोबाइल से उससे चर्चा की है और पूरा प्रयास किया जा रहा है कि इस वर्ष सरगुजा अदानी फुटबॉल अकादमी में उसका चयन हो जाए इसके लिए अमन को लगातार अभ्यास करते रहने प्रेरित किया गया है।

Posted By: Himanshu Sharma