अंबिकापुर। लुंड्रा जनपद के उपाध्यक्ष व किसान कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष वीरभद्र सिंह सचिन की अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।उनका अंतिम संस्कार गमगीन माहौल में शनिवार को उनके गृह ग्राम धौरपुर के पारिवारिक मुक्तिधाम में किया गया। जिला कांग्रेस कमेटी की ओर से उनके पिता को कांग्रेस का ध्वज प्रदान किया गया। उनके पार्थिव देह पर कांग्रेस का ध्वज लपेटा गया तो वहां मौजूद लोगों की आंखें नम हो गई। सब के दुलारे वीरभद्र सिंह सचिन सबको रुला गए। किसी ने सोचा नहीं था अल्प समय में वह दुनिया को छोड़कर चले जाएंगे। धौरपुर पैलेस में सुबह से ही लोगों की भीड़ पहुंचने लगी थी। गांव-गांव से लोग अपने चहेते सचिन बाबा को अंतिम विदाई देने पहुंचे थे।

प्रदेश सरकार के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने भी धौरपुर पहुंचकर उनके छायाचित्र पर पुष्प चक्र अर्पित कर नमन किया। कैबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त पादप बोर्ड के अध्यक्ष बालकृष्ण पाठक,लुंड्रा विधायक व सीजीएमएससी के अध्यक्ष डॉ प्रीतम राम, अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह, कांग्रेस जिला अध्यक्ष राकेश गुप्ता, अंबिकापुर के पूर्व महापौर प्रबोध मिंज, लुंड्रा के पूर्व विधायक विजय नाथ सिंह, वरिष्ठ भाजपा नेता मेजर अनिल सिंह सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधियों व कांग्रेस के पदाधिकारी कार्यकर्ता व ग्रामीण क्षेत्र के लोग पुष्प अर्पित कर वीरभद्र सिंह को अंतिम विदाई दी। इस असामयिक घटना ने धौरपुर राज परिवार का होनहार चिराग खो दिया है। राजनीति में तेजी से आगे बड़ रहे तेजतर्रार छवि के वीरभद्र की मौत ने राज परिवार को गहरा सदमा दिया है। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत सहित यहां पहुंचे जनप्रतिनिधियों ने वीरभद्र सिंह के पिता वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सोमेश्वर प्रताप सिंह सहित परिवार के सदस्यों को इस कठिन समय में साहस से काम लेने ढांढस बंधाया। बता दें, गुरुवार की रात रायपुर से अंबिकापुर आते वक्त कोटा के बेलगहना के समीप सुनसान जंगल के बीच ट्रेन से गिरकर वीरभद्र सिंह की मौत हो गई थी। शुक्रवार को दोपहर ग्रामीणों ने उनकी लाश रेलवे ट्रैक के समीप देखी और पुलिस को सूचित किया,तब परिवार के लोगों को इस घटनाक्रम की जानकारी मिली थी।

अंतिम विदाई के दौरान विक्रमादित्य सिंहदेव,रामदेव राम,मार्तंड सिंह, मृगेंद्र सिंहदेव, शैलेश सिंह,अमित सिंहदेव,विनय शर्मा बंटी, हेमंत सिन्हा,शैलेन्द्र प्रताप सिंह, अशफाक अली,रणविजय सिंहदेव, विष्णु सिंहदेव ,सुरेंद्र चौधरी,जनपद लुंड्रा के अध्यक्ष गंगाराम सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस पदाधिकारी,कार्यकर्ता व ग्रामीणजन शामिल हुए।

उठ रही जांच की मांग

लुंड्रा के जनपद उपाध्यक्ष वीरभद्र सिंह सचिन की मौत किसी के गले नहीं उतर रही। घटनास्थल से जो तस्वीरें और वीडियो वायरल हुए हैं उसको लेकर लोग सवाल खड़े करने लगे हैं।ट्रेन से गिरकर मौत की बात कही जा रही है पर घटनास्थल का जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें रेलवे ट्रैक से वीरभद्र सिंह का शव काफी दूर है।इससे सवाल यह उठता है कि आखिर इतनी दूर कोई कैसे पहुंच सकता है। ट्रेन से गिरने के बाद शरीर में कहीं संघर्ष के निशान नहीं है। कपड़े भी सुरक्षित हैं। केवल सिर पर चोट के गहरे निशान हैं। कांग्रेस के विभिन्न ह्वाट्सएप ग्रुपों और इंटरनेट मीडिया पर कांग्रेस के कार्यकर्ता व पदाधिकारी इस पूरे मामले की उधास्तरीय जांच की मांग कर रहे हैं,वहीं भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने भी इंटरनेट मीडिया पर वीडियो जारी कर प्रदेश के मुख्यमंत्री से न्यायिक जांच कराने की मांग की है।

शोक में डूबा धौरपुर व लुंड्रा

लुंड्रा के लोकप्रिय जनपद उपाध्यक्ष वीरभद्र सिंह सचिन की मौत ने क्षेत्रवासियों को स्तब्ध कर दिया है। लोगों के बीच वीरभद्र का इतना जुड़ाव था कि किसी को यह विश्वास ही नहीं हो रहा है कि अब वह इस दुनिया में नहीं हैं। दो दिन से धौरपुर अनुभाग मुख्यालय और लुंड्रा ब्लाक मुख्यालय के समस्त व्यवसायिक प्रतिष्ठान में बंद हैं।

विधायक व कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने दिया कंधा-

अंतिम यात्रा में पहुंचे सीजीएमएससी के अध्यक्ष व लुंड्रा के विधायक डॉ प्रीतम राम,कांग्रेस जिलाध्यक्ष राकेश गुप्ता ने वीरभद्र सिंह के शव को कंधा दिया। मुखाग्नि वीरभद्र सिंह के अनुज वीर विक्रम सिंह अंशु ने दिया।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close