0 पट्टे की वन भूमि और श्मशान की भूमि पर कब्जा

चांदो । नईदुनिया न्यूज

बलरामपुर जिले के चांदो थाना क्षेत्र में भुइहर समाज के 12 एकड़ भूमि और श्मशान की भूमि पर जबरन कब्जा करके खेती करने वाले पिता-पुत्र के विरूद्घ ग्रामीणों के द्वारा की गई कार्रवाई की मांग पर बुधवार को चांदो पुलिस ने अपराध दर्ज किया है। इसके पूर्व में ग्रामीणों ने कलेक्टर और एसपी को इसकी जानकारी दी थी। तहसीलदार, वन अमले और पुलिस मौके पर बीते दिवस पौधरोपण के लिए दो हजार पौधे लेकर पहुंचे थे, लेकिन मौके पर फसल लगा देख वे वापस आ गए।

पुलिस ने बताया कि वर्ष 2012 में भुइहर समाज को कब्जे की भूमि का वनभूमि पट्टा मिला है। इस जमीन में दिलमोहम्मद और उसका पुत्र कादिर अंसारी अवैध तरीके से कृषि कार्य करने में लगे हैं। समाज विशेष को दी गई भूमि के सीमांकन के बाद शेष भूमि में मक्का की बुआई की गई है, उसे कब्जा से मुक्त रखकर पौधरोपण कराने की इच्छा ग्रामीणों ने जताई थी। ग्रामीणों का आरोप है कि वनभूमि अधिकार पत्र और श्मशान की भूमि पर कब्जे के विरोध में वे सामने आए, तो नक्सलियों से पिटवाने की धमकी दी गई थी। ग्रामीणों पर हमेशा दबाव बनाने का प्रयास दोनों पिता-पुत्र कर रहे थे, जिससे आक्रोश का माहौल बन गया था। पूर्व में भी इसकी शिकायत पुलिस से की गई थी, जिसमें दिलमोहम्मद सहित अन्य के द्वारा कथित रूप से नक्सलियों को बुलाकर क्रिस्तोफर कुजूर, बरनावस लकड़ा, नरेश, कैलाश, रामसकल, प्रमोद गुप्ता, बलराम, जेडर केरकेट्टा, संस्कृत गुप्ता, अमिलुलाह अंसारी, सुखन राम सहित अन्य की पिटाई कराना बताया गया था। सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों के साथ पहुंचे इदरीकला के पूर्व सरपंच बेचन राम की रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपी पिता-पुत्र के विरुद्घ धारा 447, 294, 506 कायम किया है।