अंबिकापुर। सूरजपुर जिले के ओड़गी ब्लाक के सवेंदनशील बिहारपुर क्षेत्र के ठाड़पाथर गांव में वनभूमि पर जोताई कर रहे ग्रामीणों को हटाने पहुंचे पुलिस व वनकर्मियों पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया। इस घटना में बिहारपुर थाना प्रभारी और एक वन रक्षक के सिर पर गंभीर चोट आई है।दोनों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। उनके सिर पर कई टांके लगाए हैं। हमला करने वाले ग्रामीणों के विरुद्ध अपराध दर्ज कर लिया गया है।बताया जा रहा है वन विभाग ने पुलिस को जानकारी दी कि वनभूमि पर कब्जा किया जा रहा है।

कब्जाधारियों को हटाने की कार्रवाई करनी है। जानकारी मिलने पर वन कर्मी व पुलिस के जवान थाड़पाथर पहुंचे। जोताई कर रहे ग्रामीणों को लाठी दिखा हटने कहा। ग्रामीण वहां से घर चले गए। इसके बाद पुलिस और वन कर्मी उनके बस्ती में गए, जहां कार्रवाई की जानकारी दे रहे थे। इस बीच ग्रामीण कुछ ही देर में रेंजर, थाना प्रभारी सहित बीस जवानों को ग्रामीणों ने महिलाओं के साथ उन्हें घेर लिया। लाठी ,डंडे से हमला करना शुरू कर दिया। इस दौरान वे थाना प्रभारी बसंत खलखो व वनकर्मी मुरारी लाल टोप्पो के साथ वन विभाग का चौकीदार चपेट में आ गया।

उनके सिर पर गंभीर चोट आई।घटना के बाद पुलिस कर्मी उन्हें अस्पताल भर्ती कराया है।बता दें कि सीमावर्ती बिहारपुर क्षेत्र में 30 पंचायत हैं। तीन दिनों से ग्रामीणों ने 100 एकड़ से अधिक में कब्जा कर लिया है। यहां पेड़ों की कटाई भी तस्कर बड़े पैमाने पर कर रहें हैं। यहां से लड़की मध्य प्रदेश भेजा जाता है लेकिन वन विभाग उस पर भी कोई कार्रवाई नहीं कर पा रहा है।

इससे ग्रामीण पेड़ कटने से खाली जमीन पर कब्जा कर रहे हैं।पंचायत में जंगल की जमीन पर कब्जा कर सालों से खेती कर रहें हैं पर वन पट्टा मिलते देख नया अतिक्रमण भी कर रहे हैं। ग्रामीणों को नई भूमि पर कब्जा नहीं करने वन कर्मचारियों ने चेतावनी थी लेकिन वे नहीं मान रहे थे। इस पर वे पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे थे।

सूरजपुर पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू ने बताया कि वन विभाग के प्लांटेशन की जमीन कब्जा किया जा रहा था। इस पर विभाग के कर्मी पुलिस को साथ लेकर गए थे। वहां वन विभाग वालों व ग्रामीणों के बीच विवाद बढ़ा तो उसे थाना प्रभारी गए थे।इस दौरान हुए विवाद में उन्हें भी चोट लगी है। हमला करने वाले ग्रामीणों की पहचान की गई है।उन पर आपराधिक प्रकरण दर्ज किए जा रहे हैं।

सीमावर्ती बिहारपुर क्षेत्र अवैध गतिविधियों का केंद्र-

मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा पर स्थित चांदनी ,बिहारपुर का इलाका अवैध गतिविधियों का केंद्र बन गया है। मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश से जंगल के रास्ते नशीली दवाइयों को लेकर आने और पूरे क्षेत्र में युवाओं को बेचने का मामला भी सामने आ चुका है।कई आरोपित पकड़े जा चुके हैं। सीमावर्ती यह क्षेत्र काफी संवेदनशील हो चुका है।सामान्य लकड़ी तस्करी के साथ खैर की लकड़ियों की भी खूब तस्करी हो रही है।इस क्षेत्र को लेकर सूरजपुर प्रशासन और पुलिस दोनों की नजर है पर अक्सर वन भूमि पर कब्जा जमाने का मामला सामने आते रहता है।कई पुलिस कर्मियों वन कर्मियों की भूमिका भी इस क्षेत्र में संदिग्ध है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close