बलरामपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।बलरामपुर जिले में पिछले दो वर्षों से महंगी लग्जरी वाहनों से बकरा-बकरी चोरी करने वाले गिरोह के चार सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।इनके कब्जे से दो चारपहिया वाहन सहित अन्य सामान बरामद किए गए है।तीन फरार आरोपितों के नाम का भी राजफाश हो चुका है।अब तक कि पूछताछ में बलरामपुर जिले के चार थानों में दर्ज सात मामलों का राजफाश कर दिया गया है,इनमें 250 से अधिक बकरा-बकरियों की चोरी की गई थी।

बलरामपुर पुलिस अधीक्षक मोहित गर्ग ने बताया कि बलरामपुर जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्र में ग्रामीणों के आजीविका संर्वधन से जुड़े बकरा-बकरियों की लगातार चोरियां हो रही थी। बकरा, बकरी चोरों को पकड़ना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती थी।सुनियोजित तरीके से आरोपित घटनाओं को अंजाम दे रहे थे।एक ही रात एक साथ कई बकरा-बकरियों की चोरी से स्पष्ट था कि इसमें कोई गिरोह है जो गांवों में घूम-घूम कर ज्यादा कमाई के चक्कर में ऐसी घटनाओं में लगा है।आरोपितों को पकड़ने तीन टीम का गठन किया। टीम के द्वारा साइबर सेल प्रभारी निरीक्षक रमाकांत साहू एवं साइबर टीम के साथ आरोपितों की तलाश के लिए सरगुजा, जशपुर, कोरिया थाना अंतर्गत लगातार पतासाजी की जाती रही।इसी बीच पुख्ता जानकारी के आधार पर पुलिस टीम ने चार आरोपितों सीतापुर थाना क्षेत्र के ग्राम नकना निवासी रामप्रसाद सिदार,नानू सिंह 25 वर्ष ,सीतापुर के रायकेरा टोकोपारा निवासी वाजिद खान 24 वर्ष तथा बिशुनपुर सीतापुर निवासी हसनैन खान 35 वर्ष को गिरफ्तार किया गया। चोरी में प्रयुक्त वाहन आर्टिका क्रमांक सीजी 04 केटी 6666 तथा हुंडई कार क्रमांक सीजी 13 छश 1131, सेलो टेप, कटर तथा चोरी किए गए पांच नग बकरा को भी बरामद किया गया। प्रकरण में तीन आरोपित चांद मोहम्मद, गोल्डन उर्फ अनीश खान एवं निक्कू खान उर्फ आसिफ फरार है।एसपी ने बताया कि फरार आरोपितों को भी जल्द पकड़ लिया जाएगा। बकरा,बकरी चोरों को पकड़ने में निरीक्षक रमाकांत साहू साइबर सेल प्रभारी बलरामपुर ,उप निरीक्षक अमित बघेल,सहायक उपनिरीक्षक योगेंद्र जयसवाल, प्रधान आरक्षक छत्रपाल सिंह, अनिल पांडेय, आरक्षक अंकित पांडेय,हकीम खान राकेश तिवारी, मिथिलेश पाठक सहित साइबर सेल के आरक्षक अमित निकुंज, राज कमल सैनी सहित अन्य पुलिसकर्मियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही। आर्टिका वाहन आरोपित रामप्रसाद एवं हुंडई कार आरोपित वाजिद खान की है।इसी से आरोपित बकरा-बकरियों की चोरी कर ऊंचे दाम में खपाते थे।

ताकि संदेह न हो किसी को

एसपी मोहित गर्ग ने बताया कि

बकरा- बकरी चोरों के द्वारा किसी को शक न हो इसलिए आर्टिका, स्कॉर्पियो, जाइलो, हुंडई कार, इनोवा जैसी महंगी गाड़ियों का प्रयोग करते थे इन्ही वाहनों से बकरा ,बकरी को लादकर फरार हो जाते थे ताकि रास्ते में किसी को शक ना हो।बाद में इन्हें ऊंचे दाम में बेचते थे।चोरी से पहले घर और आसपास के क्षेत्र की रेकी भी की जाती थी।

संभाग के बाहर भी सक्रिय था गिरोह

एसपी मोहित गर्ग ने बताया कि

बकरा, बकरी चोरी करने वाला गिरोह बलरामपुर जिले के विभिन्ना थाना अंतर्गत जहां बकरा बकरी चोरी की घटना को अंजाम देते थे वही सरगुजा संभाग में भी इनके द्वारा बकरा,बकरी चोरी की जाती थी। रायगढ़ जिले तक पहुंचकर गिरोह के सदस्य बकरा, बकरी चोरी करते थे।इसमें इन्हें ज्यादा कमाई होती थी।

छीन गया था आजीविका का साधन

गिरोह की सक्रियता से कई परिवारों के समक्ष आजीविका का साधन छीन गया था।बकरा,बकरी पाल कर अपना आजीविका चलाने वाले कई लोगों के समक्ष आर्थिक संकट खड़ा हो गया था।रोजी-रोटी के लिए वे परेशान हो चुके थे।गिरोह के सदस्यों द्वारा चोरी की घटना को अंजाम देने के लिए ऐसे लोगों को ही चुना जाता था जो बड़ी संख्या में बकरा- बकरी पाल कर रखते थे। एक साथ 20 से 25 बकरा-बकरी की चोरी आरोपितों द्वारा कर ली जाती थी।

ऐसे चोरी करते थे बकरा-बकरी

दिन में घर और आसपास की रेकी की जाती थी।जहां अलग से बकरा-बकरियों को रखने की व्यवस्था होती थी, वहां चोरी करना ये ज्यादा पसंद करते थे।रात को चार पहिया वाहन से पहुंच मकान मालिक के घर के दरवाजे को बाहर से बंद कर सबसे पहले कटर से जिस रस्सी से बकरा,बकरी बांधे जाते थे उसे काटते थे। जिसके बाद सभी के मुंह पर सेलो टेप चिपका दिया जाता था जिससे बकरा बकरी आवाज न कर पाए।सभी को वाहनों में भरकर ले जाते थे।आरोपितों के खिलाफ पस्ता थाने में तीन,शंकरगढ थाने में दो तथा बलरामपुर और रामनुजंगज थाने में एक-एक अपराध दर्ज है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close