अंबिकापुर। Guide The youth: नक्सल मोर्चे पर अदम्य साहस का परिचय देकर राष्ट्रपति के पुलिस वीरता पदक से सम्मानित सरगुजा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक रतनलाल डांगी कोरोना काल में युवाओं को मानसिक अवसाद से बाहर निकालने फिट इंडिया मूवमेंट चला रहे है। प्रतिदिन सुबह दो से तीन घंटे योग, व्यायाम, दौड़ के साथ आश्चर्यचकित करने वाले शारीरिक अभ्यास करने वाले आइजी, युवाओं के रोल माडल बन चुके हैं। प्रेरक संदेश के साथ आईजी के योग, व्यायाम से जुड़ी वीडियो, फोटो को दो दिन पहले चंद घंटों में ही एक लाख सत्तर हजार लोगों ने देखा, लाइक किया और कमेंट भी किए।

वर्षों से 'गाइड द यूथ ग्रो द नेशन' मुहिम चलाकर युवाओं को आगे बढ़ाने में लगे आईजी रतनलाल डांगी ने इस मुहिम को अब फिट इंडिया मूवमेंट से जोड़ दिया है। योग, व्यायाम और शारीरिक अभ्यास से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। स्कूल-कॉलेज बंद हैं। शैक्षणिक गतिविधियों को लेकर अनिश्चितता की स्थिति में विद्यार्थी मानसिक अवसाद में हैं। युवाओं के समक्ष भी चिंता है। ऐसे में युवाओं-विद्यार्थियों को मोटिवेट करने आईजी फिट इंडिया मूवमेंट को सबसे कारगर मानते है। जब आईजी स्तर का अधिकारी व्यस्तता के बीच अपने शरीर को स्वस्थ और फिट रखने के लिए हर रोज दो से तीन घंटे का समय निकाल सकता है तो विद्यार्थी- युवाओं के लिए यह और आसान है।

आइजी बताते हैं कि सेना- पुलिस में जाने की इच्छा रखने वाले युवाओं के लिए भी यह लाभकारी होता है। कई युवा ऐसे होते है जिनका कहना होता की पुलिस उप निरीक्षक की भर्तियां नहीं निकल रही हैं। ऐसे युवाओं को आईजी प्रेरित करते है् कि क्या वे इन भर्तियों के लिए तैयार हैं? ऐसे युवाओं को कई बार वे अवसर भी देते है कि जो शारीरिक अभ्यास वे कर पाते है वैसा ही वे (युवा) कर के दिखा सकते हैं क्या? आईजी के आगे युवा कम आयु के बावजूद कमजोर साबित होते रहे है। ऐसे युवाओं को वे लगातार प्रेरित करते रहे है कि शारीरिक अभ्यास से जुड़े ताकि वे स्वस्थ्य रह सकें।

आईजी रतनलाल डांगी की खासियत है कि वे फिट इंडिया मूवमेंट में सिर्फ प्रेरणा नहीं देते बल्कि खुद ऐसा कर के दिखाते है जो आज बीस से तीस वर्ष तक के युवा नहीं कर सकते।आईजी बताते है कि भाषण देना तो आसान है लेकिन खुद उस पर अमल कर के दिखाना ज्यादा प्रेरणादायी होता है,उनकी भी कोशिश होती है कि वे स्वयं को उदाहरण के रूप में प्रस्तुत कर युवाओं, विद्यार्थियों को प्रेरित कर सके।

पुलिस विभाग के अधिकारी,कर्मचारियों के लिए भी आईजी डांगी का फिट इंडिया मूवमेंट असरकारक साबित हो रहा है। ऐसे पुलिस अधिकारी- कर्मचारी जो शारीरिक रूप से चुस्त- दुरुस्त नहीं होते उनमें भी शारीरिक रूप से फिट आईजी को देखकर प्रेरणा जागृत होती है कि वे भी अपने शरीर और स्वास्थ्य पर ध्यान दें। किसी भी परेड या पुलिस के आयोजन में बेडौल पुलिस अधिकारी-कर्मचारी आईजी के समक्ष खड़ा होने से भी संकोच करने लगे है। कई ऐसे उदाहरण सामने आए है जब आईजी को सोशल मीडिया में हर रोज दो से तीन घँटे पसीना बहाता देख दूसरे पुलिस अधिकारी- कर्मचारी भी खुद को फिट रखने शारीरिक मेहनत योग- व्यायाम से जुड़े हैं।

ऐसी पूंजी जो नजर नहीं आती

स्वस्थ शरीर को असली पूंजी माना गया है। आईजी डांगी कहते है कि यदि शरीर स्वस्थ्य है तो वह देश के काम आता है। इंसान, शारीरिक स्वस्थता को नजरअंदाज कर पैसा तो कमाता है, लेकिन बाद में खर्च भी इसी में होता है।हम बीमार हुए तो बड़ी धनराशि इलाज में खर्च हो जाती है। अचानक बीमार पड़े तो कई बार जमा पूंजी उसी में खत्म हो जाता है। इसलिए यदि हम हर रोज दो घँटे भी अपने शरीर पर ध्यान दे रहे है, खुद को फिट रख रहे है तो यह मान लीजिए कि हम कमाई कर रहे है। यह भी एक प्रकार की पूंजी है, बचत है जो दिखता तो नहीं है, लेकिन यह निश्चित रहता है कि हमें इलाज पर राशि खर्च नहीं करनी पड़ती है।

खुले चैलेंज में दम फूलने लगता है युवाओं का

सरगुजा रेंज आईजी का पदभार ग्रहण करने के बाद से बेहतर पुलिसिंग के अलावा जरूरतमंदों, पीड़ितों की मदद से रतनलाल डांगी की पहचान एक ऐसे पुलिस अधिकारी के रूप में स्थापित हो चुकी है जो हर आम और खास के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहते है। कई अवसरों में विद्यार्थियों के साथ उनके अभिभावकों ने आईजी से मुलाकात की। फिट इंडिया मूवमेंट को लेकर युवाओं ने अपनी जिज्ञासा रखी। खुले चैलेंज के भी दौर आया। आईजी से मुकाबले में उनसे आधी उम्र के युवाओं का व्यायाम में दम फूलने लगा और आईजी ने उन्ही युवाओं के सामने ऐसा शारीरिक व्यायाम कर दिखाया जो एकबारगी अविश्वनीय भी लगता है।

लाखों लोग पसंद करते है फ़ोटो, वीडियो

सोशल मीडिया में सक्रिय रहने वाले आईजी रतनलाल डांगी युवाओं के लिए आदर्श और मार्गदर्शक की भूमिका निभा रहे है। फिट इंडिया मूवमेंट के तहत हर रोज वे महापुरुषों के विचार अथवा प्रेरक संदेश के साथ योगा, कसरत, दौड़ की वीडियो, फ़ोटो सोशल मीडिया में भी शेयर करते है। इसमें हर रोज कुछ नया ही होता है। इसे पसंद करने वाले लाखों में होते है। कमेंट करने वालों की संख्या भी अत्यधिक होती है। युवाओं- विद्यार्थियों की समस्याओं, जिज्ञासाओं को भी आइजी शांत करते है। एक लाख सत्तर हजार लोगों द्वारा लाइक किया गया एक फोटो दो दिन पहले ही उन्होंने सोशल मीडिया में शेयर किया था।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020