अंबिकापुर । नईदुनिया प्रतिनिधि

फर्जी दस्तावेजों से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नौकरी प्राप्त करने के मामले में बलरामपुर पुलिस ने धोखाधड़ी का अपराध पंजीबद्घ किया है। पुलिस ने बताया कि ग्राम सेमली निवासी सुनीता देवरानी द्वारा पुलिस अधीक्षक से लिखित शिकायत की गई थी कि विभावती सिंह पति भूपेंद्र कुमार सिंह निवासी सेमली द्वारा फर्जी दस्तावेजों के आधार पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नौकरी प्राप्त की गई है। शिकायत की गंभीरता पर एसपी ने बलरामपुर पुलिस को जांच व कार्रवाई का आदेश दिया था। जांच के दौरान बलरामपुर पुलिस ने शिकायतकर्ता सुनीता देवरानी का बयान लिया तथा विभावती सिंह का कक्षा 12वीं की अंकसूची की जांच झारखंड के गुमला स्थित स्कूल में जाकर किया गया, तो पता चला कि विभावती द्वारा फर्जी तरीके से अंकसूची में कूटरचना कर अंक बढ़ाया गया था। सुनियोजित साजिश के तहत आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नौकरी प्राप्त करने उसने कूटरचना कर फर्जी दस्तावेज तैयार किए थे। शिकायत पर पुलिस ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के खिलाफ धारा 420, 468, 471 के तहत अपराध पंजीबद्घ किया है। पुलिस के मुताबिक सुनीता देवरानी ने भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए आवेदन प्रस्तुत किया था। अंतिम वरीयता सूची में वह पहले स्थान पर थी, लेकिन विभावती सिंह को नियुक्ति प्रदान कर दी गई थी। आरोप है कि बलरामपुर जिले में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति में इसी प्रकार की कई और गड़बड़ी की गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network