अंबिकापुर। Navratri 2020: शारदीय नवरात्र के अष्टमी और नवमी तिथि पर शनिवार को सरगुजा राजपरिवार के मुखिया व प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री टीएस सिंहदेव महामाया मंदिर में संधि पूजन राजसी परंपरा के अनुसार किया। इस दौरान कोई भी बाहरी व्यक्ति शामिल नहीं हुआ। राजपुरोहित पंडित बबलू महराज सहित अन्य पुजारियों के द्वारा मंत्रोच्चार के साथ यह विशेष पूजन संपन्न कराया जाएगा। महामाया में पूजा के बाद मंत्री सिंहदेव ने पास के ही समलाया मंदिर में भी पूजा किया।

बता दें कि नवरात्र में अष्टमी और नवमी तिथि को दो तिथि का मिलन होता है, इसलिए इसे संधि पूजा के नाम से जाना जाता है। संधि पूजा को अष्टमी तिथि के आखिरी 24 मिनट और नवमी तिथि शुरू होने के 24 मिनट बाद किया जाता है। एक कथा के मुताबिक, जिस समय माता चामुंडा और महिषासुर के बीच में भयंकर युद्ध हो रहा था। उस समय चंड और मुंड नाम के दो राक्षसों ने माता चामुंडा की पीठ पर वार कर दिया था। इसके बाद माता का मुख क्रोध के कारण नीला पड़ गया और माता ने दोनों राक्षस का वध कर दिया था, जिस समय उनका वध किया वह संधि काल था। यह मुहूर्त काफी शक्तिशाली माना जाता है,क्योंकि मां दुर्गा ने इस समय अपनी पूरी शक्ति का प्रयोग कर चंड और मुंड का वध कर दिया था।

सरगुजा राजपरिवार की कुलदेवी की पूजा करने पहुंचे राज परिवार के मुखिया टीएस सिंहदेव ने बकायदा धोती, कुर्ता और पीतांबर वस्त्र पहन रखे थे और परंपरा अनुसार उन्होंने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच संधि काल में पूजा की। राजपुरोहित के साथ मंदिर के पुजारियों ने संधि पूजा में 107 दीये, 108 कमल,108 बेल के पत्ते,आभूषण, पारंपरिक कपड़े, गुड़हल के फूल, चावल अनाज और एक लाल फल व माला का उपयोग कर मां दुर्गा का श्रृंगार कराया। इसके बाद मां दुर्गा के मंत्रों का जाप कर उनकी आरती कराई। काफी देर तक मंदिर में घंटी, मृदंग व अन्य पारंपरिक वाद्य यंत्र बजने से माहौल भक्तिमय हो गया।

सिंहदेव ने कहा- कुलदेवी से की सभी के अच्छे स्वास्थ्य की कामना

संधि पूजा उपरांत स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि मैंने परंपरा का निर्वहन आज किया है। पीढ़ी दर पीढ़ी परिवार के लोग इस परंपरा का निर्वहन कर रहे हैं। मैं भी उसी का एक हिस्सा बना हूं। मैंने आज मां महामाया से सभी के लिए सुख-समृद्धि की कामना की है। सभी के बेहतर स्वास्थ्य की कामना की है। मुझे पूरा विश्वास है मां के दरबार में पूरे मन से, स्वस्थ मन से मांगी गई दुआ दुआएं पूरी होती हैं, और पूरा विश्वास है, सरगुजा के साथ पूरा छत्तीसगढ़ ही नहीं देश के कोने कोने में रहने वाले लोग स्वस्थ होंगे। इस दौरान उनके साथ राज्य वन औषधि बोर्ड अध्यक्ष बालकृष्ण पाठक,शशिभाल सिंह,इंद्रजीत सिंह धंजल उपस्थित थे।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस