0 अंतिम दिन नाम वापसी को लेकर चलता रहा मान-मनौव्वल का दौर

0 पूरे दिन कलेक्टोरेट में बनी रही गहमा-गहमी

फोटो-14 अधिकृत प्रत्याशियों का बी-फार्म जमा करते डीसीसी अध्यक्ष बालकृष्ण पाठक, साथ में जिपं सदस्य राकेश गुप्ता, जेपी श्रीवास्तव, भाजपा पार्षदों का बी-फार्म करते जिलाध्यक्ष अखिलेश सोनी, अनिल सिंह मेजर, भारत सिंह सिसोदिया फोटो-15 नाम वापसी के लिए गहमागहमी

अंबिकापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

नाम वापसी के बाद नगर निगम अंबिकापुर के 48 वार्डों में 138 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। नाम वापसी के अंतिम दिन कलेक्टोरेट में गहमागहमी के बीच कुल 42 प्रत्याशियों ने नाम वापस ले लिए। इसमें कांग्रेस व भाजपा के बागी प्रत्याशी भी शामिल हैं। कुछ वार्डों में भाजपा व कांग्रेस के बागियों के साथ निर्दलीय भी राजनीतिक दल से जुड़े प्रत्याशियों के लिए सिरदर्द बन चुके हैं।

नगर निगम अंबिकापुर के 48 वार्डों के लिए कुल 182 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया था। इनमें से दो प्रत्याशियों का नामांकन जाति प्रमाण पत्र के अभाव में निरस्त कर दिया गया था। शेष 179 प्रत्याशी चुनाव मैदान में रह गए थे। नामांकन वापसी के लिए भाजपा व कांग्रेस के बागियों पर सबकी निगाहें टिकी हुई थी। नाम वापसी के अंतिम दिन प्रातः साढ़े 10 बजे से ही भाजपा व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कलेक्टोरेट में सक्रिय रहकर अपने-अपने बागी प्रत्याशियों का नामांकन वापस दिलाने सक्रिय रहे। कुछेक वार्डों में सफलता भले न मिली, लेकिन अधिकांश वार्डों में बागियों द्वारा नाम वापस ले लिया गया है।

इन प्रत्याशियों ने नाम वापस लिया-

वार्ड क्रमांक-1 से प्रवीण गुप्ता, वेदप्रकाश शर्मा, वार्ड-3 से रजनी, वार्ड-6 से सज्जी मैथ्यू, वार्ड-11 से ज्ञानलता कुजूर ने अपना नाम वापस लिया है। प्रवीण गुप्ता कांग्रेस की ओर से वार्ड क्रमांक-1 से दावेदारी कर रहे थे, लेकिन उनके स्थान पर पार्टी ने देवेंद्र सिंह रावत को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया था। इसी वार्ड से वेदप्रकाश शर्मा को भाजपा की टिकट मिलने की आस थी, लेकिन टिकट नहीं बदलने के कारण उन्होंने अपना नाम वापस ले लिया। वार्ड क्रमांक-11 से कांग्रेस ने पहले ज्ञानलता कुजूर को प्रत्याशी घोषित किया था, लेकिन आखिरी समय में अंजेला केरकेट्टा को प्रत्याशी घोषित कर देने के कारण ज्ञानलता ने अपना नाम वापस ले लिया। इसी प्रकार वार्ड-15 से सावित्री जायसवाल, अजीत ताम्रकार, सतीश मिश्रा, हेमंत सिन्हा ने नाम वापस ले लिया। यहां हेमंत सिन्हा को पार्टी ने पहले प्रत्याशी घोषित किया था। बाद में मदन जायसवाल को प्रत्याशी बनाया गया। वार्ड क्रमांक-18 से विनोद वर्मा, शेखर झारिया, वार्ड-14 से दीपक सोनी, वार्ड-20 से विकल झा, वार्ड-21 संगीता जायसवाल, वार्ड-25 से अनुराधा गोस्वमी, अनूप गुप्ता, वार्ड-26 शुभांगी बिहाड़े, वार्ड-28 से अभिषेक जायसवाल, रामचंद्र स्वर्णकार, लखन विश्वकर्मा, वार्ड-29 से अजय सिंह, प्रभू राम, अनूप जायसवाल, अरूण सिंह, शुभांकुर पाण्डेय, वार्ड-31 दिनेश प्रसाद सोनी, विद्यानंद मिश्रा, विनोद दुबे, पीयूष त्रिपाठी, वार्ड-36 अचला पटेल, मंजू मुखर्जी, वार्ड-38 राजकुमार सिंह, इरफान सिद्दीकी, वार्ड-39 रशीदा बेगम, सेराजू निशा, परवीन बानो, वार्ड-43 से संतोष श्रीवास्तव, वार्ड-45 से सावित्री देवी सारथी, नीलम मिर्रे शामिल हैं।

रोजालिया से नहीं हुई मुलाकात, मोबाइल भी बंद-

कांग्रेस की ओर से दो बार पार्षद रही रोजालिया एक्का ने बगावती तेवर अपना लिए हैं। उनके स्थान पर मेयर डा. अजय तिर्की को फुन्दुरडिहारी सेंट्रल वार्ड क्रमांक-8 से प्रत्याशी घोषित किए जाने के कारण नाराज चल रही रोजालिया एक्का ने वीर सावरकर वार्ड क्रमांक-7 से नामांकन दाखिल कर दिया था। यहां से एमआइसी सदस्य द्वितेंद्र मिश्रा कांग्रेस के घोषित प्रत्याशी हैं। बताया जा रहा है कि कांग्रेस के जिला स्तर के कुछ नेता रोजालिया एक्का से संपर्क करने के प्रयास में थे। फुन्दुरडिहारी स्थित उनके घर जाकर चर्चा करने की कोशिश की गई, लेकिन दोनों बार उनसे मुलाकात नहीं हुई। लगातार उनका मोबाइल भी स्वीच आफ बता रहा था। उन्होंने अपना नामांकन भी वापस नहीं लिया है।

शीतला वार्ड से भाजपा के बागियों ने नाम वापस लिया-

शहर के शीतला वार्ड क्रमांक-31 में भाजपा प्रत्याशी मधुसूदन शुक्ला के खिलाफ भाजपा से जुड़े पांच अन्य प्रत्याशियों ने भी नामांकन दाखिल कर मुश्किलें बढ़ा दी थी। नाम वापसी के अंतिम दिन भाजपा के मंडल अध्यक्ष विद्यानंद मिश्रा, पीयूष त्रिपाठी, विनोद दुबे ने नाम वापस ले लिया। कांग्रेस के बागी दिनेश सोनी द्वारा भी नाम वापस ले लिया गया है। अब यहां कांग्रेस के एकमात्र घोषित प्रत्याशी मनोज पाण्डेय रह गए हैं। भाजपा प्रत्याशी मधुसूदन शुक्ला के बेहद करीबी संजय शर्मा ने यहां नाम वापस न लेकर भाजपा की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। इस वार्ड में अभी भी चार प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं।

अभिषेक ने भाजपा से इस्तीफा दिया-

गौरी वार्ड क्रमांक-28 से अभिषेक जायसवाल भाजपा के बागी प्रत्याशी तो नहीं बने, लेकिन उन्होंने संगठन के स्थानीय नेताओं के व्यवहार तथा अपनी उपेक्षा की वजह से अंबिकापुर नगर मंडल मंत्री सहित भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने भाजपा जिला व मंडल अध्यक्ष को अपना इस्तीफा सौंपा है। उन्होंने कहा कि गौरी वार्ड में जिन नेताओं की जिम्मेदारी थी कि वे भाजपा की ओर से वार्ड में बेहतर विकल्प दें, परंतु वे लोग उनकी व वार्डवासियों की उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे, इसलिए उन्होंने स्वार्थपूर्ण व स्तरहीन राजनीति से दुःखी होकर भाजपा के समस्त दायित्वों से इस्तीफा देना ही उचित समझा। अभिषेक ने कहा कि पिछले चुनाव में उनकी मां को भाजपा द्वारा वीर नारायण वार्ड से अधिकृत प्रत्याशी घोषित करने के बाद भी नामांकन भरते समय फोन कर भाजपा कार्यालय बुला नाम वापस कराया गया था। इस बार भी मजबूत दावेदारी के बावजूद उन्हें टिकट नहीं दी गई।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket