अंबिकापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

नगरीय निकाय निर्वाचन 2019 ने अंबिकापुर के राजनैतिक इतिहास में सोमवार को नई कहानी गढ़ दी, जब लंबे समय से एक-दूसरे के राजनैतिक विरोधी रहे वर्तमान सभापति व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव शफी अहमद व पूर्व पार्षद इरफान सिद्दीकी एक साथ आ गए। सिर्फ शफी अहमद ही नहीं, बल्कि शहर के सभी 48 वार्डों के कांग्रेस प्रत्याशियों के पक्ष में कार्य करने का वादा कर कांगे्रस के समर्थन में इरफान सिद्दीकी ने अपना नामांकन वापस ले लिया। नगर के जाकिर हुसैन वार्ड क्रमांक-38 से कांग्रेस के शफी अहमद, भाजपा के सतपाल अरोरा के अलावा निर्दलीय इरफान सिद्दीकी व राजकुमार सिंह ने नामांकन दाखिल किया था। इरफान सिद्दीकी सामाजिक संगठन से अरसे से जुड़े हुए हैं। उनके परिवार की शहर ही नहीं अपितु प्रदेश में अलग पहचान है। वे पूर्व में पार्षद भी रह चुके हैं। राजनैतिक रूप से इरफान सिद्दीकी और शफी अहमद को एक-दूसरे का धुर विरोधी माना जाता है, लेकिन राजनीति में परिस्थितियां कैसे बदलती हैं, इसका नजारा सोमवार को नामांकन वापसी के दौरान देखने को मिला। जब से शफी अहमद के वार्ड में इरफान सिद्दीकी ने नामांकन दाखिल किया था, उसी समय से शहर में यह चर्चा थी कि दोनों के बीच मुकाबला होगा भी या नहीं। नाम वापसी के अंतिम दिन कलेक्टोरेट पहुंचकर इरफान सिद्दीकी ने सभी को चौंका दिया। वे कलेक्ट्रेट आए भी तो सीधे कांग्रेसी नेताओं से चर्चा में मशगुल रहे। इतना ही नहीं नाम वापस लेने सहायक रिटर्निंग अधिकारी के कक्ष में जाने से पहले उन्होंने शफी अहमद को याद भी किया। जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बालकृष्ण पाठक, प्रदेश महासचिव शफी अहमद, जिला पंचायत सदस्य राकेश गुप्ता सहित अन्य कांग्रेस नेताओं के साथ वे सहायक रिटर्निंग अधिकारी के कक्ष में पहुंचे और सभी की उपस्थिति में अपना नामांकन वापस ले लिया। पत्रकारों से चर्चा करते हुए इरफान सिद्दीकी ने कहा कि शफी अहमद कांगे्रस के प्रदेश स्तर के बड़े नेता हैं। उन्होंने शहर विकास और अपनों से चर्चा के बाद नाम वापस लेने का निर्णय लिया है। इसके लिए उन्होंने कांग्रेस के समक्ष कोई शर्त भी नहीं रखी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को समर्थन देते हुए उन्होंने अपना नाम वापस लिया है। कांग्रेस को यदि उनकी जरूरत महसूस होगी तो वे हर वक्त कांग्रेस के साथ रहेंगे। इरफान ने कैबिनेट मंत्री टीएस सिंहदेव सहित प्रदेश व जिले के वरिष्ठ नेताओं का नाम लेते हुए कहा कि वरिष्ठ नेताओं का जो भी निर्देश कांग्रेस व जनहित के लिए मिलेगा, उन निर्देशों का वे पालन करने तैयार बैठे हैं। इरफान सिद्दीकी के नाम वापसी और कांग्रेस के बुलावे पर कार्य करने के दावे ने उनके कांगे्रस प्रवेश की संभावना को बढ़ा दिया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस