बतौली (नईदुनिया न्यूज)। बतौली क्षेत्र के शांतिपारा में दशकों पुराने अंग्रेजों के जमाने के पुल के ऊपर एक ओवरलोड ट्रक का क्राउन टूटने से शुक्रवार सुबह लगभग तीन घंटे से ज्यादा समय तक जाम लगा रहा। सुबह ही लोगों को अपने कार्यक्षेत्र जाने के लिए भारी मशक्कत करनी पड़ी। साढ़े तीन घंटे आपाधापी का माहौल रहा। बच्चे बुजुर्ग और शासकीय कर्मचारी, स्कूल शिक्षक बेहद परेशान नजर आए। आखिर में जेसीबी से धक्का देकर ओवरलोड ट्रक को हटाया जा सका और जाम खुलवाया गया। ओवर लोड वाहनों पर किसी तरह का लगाम न होने से आए दिन जर्जर सड़क पर जाम की परेशानी बनी रहती है।

रायगढ़ से सीमेंट लोड कर ट्रक क्रमांक सीजी 15 एजी 5172 अंबिकापुर जा रहा था। शांतिपारा के पुराने सकरे पुल पर ट्रक का क्राउन टूट गया और ठीक पुल के ऊपर ट्रक रुक गया। देखते ही देखते दोनों और डेढ़ सौ से दो सौ बड़े चार पहिया वाहनों की लंबी कतारें लग गई। पुल के ठीक बगल से मोटर साइकिल गुजरने की जगह बच गई थी जिससे लोग किसी तरह आना-जाना कर पा रहे थे। लगभग तीन घंटे से ज्यादा समय तक जाम की स्थिति बनी रही। इसी समय लोग अपने कार्यालयों की ओर जा रहे थे। उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। इसके अलावा स्कूल जाने वाले बच्चों, शिक्षकों को भी काफी परेशानी हुई। बसों को बतौली बगीचा चौक और सुआरपारा से बाईपास के सहारे भेजा गया। 10 से 15 किलोमीटर का अतिरिक्त सफर तय कर बसों को गुजरना पड़ा। बाद में एक जेसीबी मंगवा कर ट्रक को धकेला गया, तब जाकर जाम खुल पाया। तीन घंटे से ज्यादा समय तक आपाधापी मची रहने से पूरी दिनचर्या प्रभावित हो गई।

ओवरलोड वाहनों पर कोई लगाम नहीं-

अंबिकापुर से पत्थलगांव तक पिछले तीन वर्षों से ज्यादा समय से राष्ट्रीय राजमार्ग 43 निर्माणाधीन है। पीक्यूसी का काम फिलहाल तेज गति से किया जा रहा है। बावजूद इसके अभी कई कार्य शेष बचे हुए हैं। बड़े पुलों का निर्माण किया जाना है। अभी भी दशकों पुराने जर्जर पुलों से आवागमन जारी है। ऐसे में ओवरलोड वाहनों पर लगाम लगाई जानी चाहिए थी, लेकिन इन ओवरलोड ट्रकों और मालवाहक वाहनों पर किसी तरह का लगाम न होने से ये जर्जर सड़कों से ओवर लोड होकर गुजरते हैं और सड़क की स्थिति दिन-ब-दिन दयनीय होती जाती है। इसके अलावा आयेदिन जाम से लोग काफी परेशान रहते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket